Breaking News

नैक तैयारियों पर राज्यपाल का जोर

डॉ. दिलीप अग्निहोत्री

कुलाधिपति के रूप में उच्च शिक्षण संस्थाओं को व्यापक सुधार के निर्देश देती रही है। शिक्षा की गुणवत्ता व नकल विहीन परीक्षा की दिशा में अनेक कदम भी उठाए गए है। उच्च शिक्षण संस्थानों के नैक मूल्यांकन संबन्धी प्रजेंटेशन का भी आनन्दी बेन अवलोकन करती रही है। इस दौरान वह सुधार के सुझाव भी देती है। इस क्रम में उन्होंने एक बार फिर उच्च शिक्षण संस्थानों को दिशा निर्देश दिए है।

उन्होंने कहा कि नैक उच्च शिक्षा संस्थानों के कार्यात्मक रूप से गुणवत्ता को सुनिश्चित करता है। प्रदेश के विश्वविद्यालयों को नैक मूल्यांकन के निर्धारित मापदण्डों के अनुसार अपनी तैयारी करनी चाहिए। राज्यपाल आनंदीबेन डॉ एपीजे अब्दुल कलाम प्राविधिक विश्वविद्यालय, लखनऊ में नैक मूल्यांकन तैयारियों संबन्धी पर दो दिवसीय कार्यशाला का शुभारम्भ किया। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय अनुदान आयोग द्वारा राष्ट्रीय मूल्यांकन एवं प्रत्यायन परिसर नैक की स्थापना की गयी थी।

नैक उच्च शिक्षा संस्थानों के कार्यात्मक रूप से गुणवत्ता को सुनिश्चित करता है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश के राज्य विश्वविद्यालय नैक रैंकिंग में पिछड़ रहे हैं। इसमें सुधार हेतु कार्य प्रणाली में बदलाव आवश्यक है। जमीनी स्तर पर शोध कार्य होने चाहिए। इसके अनुरूप अनुदान के स्तर पर भी बदलाव अपेक्षित है। उच्च शिक्षण संस्थानों को ग्रामीण परिवेश से भी जुड़ना चाहिए। किसानों की समाधान के लिए एक नीति बनानी चाहिए।

शिक्षा आत्मनिर्भर भारत अभियान को आगे बढाने में सहायक होनी चाहिए। संस्थान मात्र डिग्री देने तक सीमित ना रहें। विद्यार्थियों को आत्मनिर्भरता बनाने में भी सहायक होना चाहिए। पाठ्यक्रमों इसके अनुरूप होना चाहिए। युवाओं को लघु उद्योग, स्टार्टअप प्रारम्भ करने के लिए प्रोत्साहित करना चाहिये।

About Samar Saleel

Check Also

संत कबीरदास जयंती समारोह पर राष्ट्रीय शोध संगोष्ठी आयोजित

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें Published by- @MrAnshulGaurav Wednesday, May 25, 2022 लखनऊ। राष्ट्रीय ...