Breaking News

संघर्ष विराम के बाद और खतरनाक हुआ इजराइल, हमले का दायरा बढ़ाया, दो दर्जन इलाके खाली कराए

संघर्ष विराम के बाद इजराइल और ज्यादा खतरनाक हो गया है। इजराइल अब बड़े पैमाने पर जंग लड़ने के मूड में है। इसके लिए इज़राइल ने करीब दो दर्जन इलाकों को खाली करने का फिर आदेश दिया है।

हमले का दायरा भी बढ़ा दिया है। इज़राइल ने गाज़ा पट्टी के दक्षिणी शहर खान यूनिस को खाली करने के अपने निर्देशों को सोमवार को फिर से दोहराया जहां हज़ारों विस्थापित फलस्तीनियों ने हाल के हफ्तों में शरण ली है।
वहीं, इजराइल ने क्षेत्र में अपने ज़मीनी हमले का दायरा बढ़ा दिया है और वह पूरी गाजा पट्टी पर बमबारी कर रहा है।

हफ्तेभर लंबे संघर्षविराम के बाद फिर से हमले शुरू हुए हैं, जिनका मकसद गाजा के हमास शासकों को खत्म करना है। यह युद्ध 7 अक्टूबर को हमास द्वारा इज़राइल पर अचानक किए गए हमले के बाद शुरू हुआ था। इसमें हज़ारों फिलिस्तीनी मारे गए हैं और गाज़ा पट्टी की 23 लाख की आबादी में से तीन चौथाई से ज्यादा लोग विस्थापित हुए हैं। वहीं लोगों के पास कोई सुरक्षित स्थान नहीं रह गया है।

अब और संघर्ष विराम की उम्मीदें धुंधली

इज़राइल द्वारा सप्ताहांत अपने वार्ताकारों को वापस बुलाए जाने के बाद एक और अस्थायी संघर्षविराम की उम्मीदें धुंधली हो गई हैं। हालांकि इजराइल का सबसे बड़ा सहयोगी अमेरिका उस पर बड़े पैमाने पर लोगों को और विस्थापित नहीं करने तथा आम लोगों को नहीं मारने का दबाव बढ़ा रहा है और अमेरिकी उपराष्ट्रपति कमला हैरिस की क्षेत्र की यात्रा के दौरान यह संदेश रेखांकित किया गया। उन्होंने यह भी कहा कि अमेरिका फिलिस्तीनियों को गाज़ा या कब्जे वाले वेस्ट बैंक से जबरन स्थानांतरित करने या गाज़ा की सीमाओं को फिर से खींचने की अनुमति नहीं देगा।

इजराइल के हमले में सैकड़ों लोग मारे गए: फिलिस्तीन

वहीं फिलिस्तीनी स्वास्थ्य अधिकारियों ने बताया कि शुक्रवार को संघर्षविराम के खत्म होने के बाद सैकड़ों आम लोगों की मौत हो चुकी है जिससे बातचीत की मेज़ पर फिर से लौटने का दबाव बढ़ रहा है। इज़राइली हमलों की वजह से गाज़ा का उत्तरी हिस्सा मलबे में तब्दील हो चुका है। दक्षिणी हिस्से में पनाह चाह रहे लोगों को भी इन्हीं स्थितियों को गुज़रना पड़ सकता है। इज़राइल और पड़ोसी मिस्र ने किसी भी शरणार्थी को स्वीकार करने से इनकार कर दिया है।

रातभर सुनाई दी बम और विस्फोटों की आवाजें

लोगों का कहना है कि उन्होंने रातभर खान यूनिस और इसके पास के इलाकों में हवाई हमलों और बम विस्फोटों की आवाज़ सुनी तथा इसके बाद सोमवार को सेना ने पर्चे गिराकर लोगों से मिस्र की सीमा की ओर दक्षिण में जाने का कहा। सोशल मीडिया पर सोमवार तड़के अरबी भाषा में किए गए पोस्ट में सेना ने खान यूनिस के आसपास के करीब दो दर्जन इलाकों को खाली करने का फिर से निर्देश दिया है। स्थानीय नागरिक हलीमा अब्देल रहमान ने कहा कि उन्होंने इस तरह के आदेशों पर ध्यान देना बंद कर दिया है और वह अक्टूबर में अपना घर छोड़कर खान यूनिस के बाहरी इलाके में अपने रिश्तेदारों के साथ रह रही हैं। हमास शासित गाज़ा के स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि सात अक्टूबर के बाद से क्षेत्र में 15,500 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है और 41,000 लोग घायल हुए हैं।

About News Desk (P)

Check Also

हिना ने इमरान को बताया लोकलुभावनवाद का पोस्टर बॉय, कहा- सत्ता में रहते हुए विपक्ष की तरह करते थे काम

पाकिस्तान की पूर्व विदेश मंत्री हिना रब्बानी खार ने इमरान खान को ‘लोकलुभावनवाद का पोस्टर ...