Breaking News

तकनीक के जरिए सीमा सुरक्षा को बनाएं और सशक्त, केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने जवानों को किया सम्मानित

नई दिल्ली। सीमा सुरक्षा बल के 18वें अलंकरण समारोह  में आज केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने मुख्य अतिथि के तौर पर हिस्सा लिया और वीर जवानों को सम्मानित किया। केंद्रीय गृहमंत्री ने कहा, ‘सीमा सुरक्षा के काम में लगे BSF और सभी पैरामिलिट्री फोर्स के कारण आज भारत विश्व के नक्शे पर अपना गौरवमय स्थान दर्ज करा रहा है।’ इस मौके पर गृह सचिव अजय भल्ला और इंटेलिजेंस ब्यूरो के निदेशक अरविंद कुमार भी शामिल हुए।

पैरामिलिट्री पर गृह मंत्री ने जताया भरोसा

गृहमंत्री अमित शाह ने आज BSF के अधिकारियों व कार्मिकों को सम्मानित किया। इस मौके पर संबोधित करते हुए गृहमंत्री ने कहा घुसपैठ, मानव तस्करी, गो तस्करी, हथियारों की तस्करी, ड्रोन..ये सभी चुनौतियां हैं लेकिन मुझे पैरामिलिट्री फोर्स पर पूरा विश्वास है कि वे सभी चुनौतियों को पार कर सीमा सुरक्षा को सुनिश्चित करेंगे।’ गृहमंत्री ने कहा, ‘मैं उन लोगों को सलाम करता हूं जिन्होंने सर्वोच्च बलिदान दिया है क्योंकि पूरा देश जानता है कि आप सजग बनकर देश की सीमाओं की सुरक्षा कर रहे हैं, इसी कारण आज देश लोकतंत्र के अपनाए हुए विकास के रास्ते पर आगे बढ़ रहा है, उन बलिदानियों को कभी भुलाया नहीं जा सकता।’

प्रधानमंत्री मोदी ने देश को दी रक्षा नीति

सीमा सुरक्षा बल(BSF) के 18वें अलंकरण समारोह के मौके पर अपने संबोधन में गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि देश को रक्षा नीति की जरूरत थी जो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दी। हमारी चुनौतियों को देखकर हमने अपने आप को तैयार किया है और टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल कर सीमाओं की सुरक्षा को सशक्त करना होगा। इस क्रम में उन्होंने जोधपुर का जिक्र भी किया जहां तकनीक का इस्तेमाल रक्षा क्षेत्र को मजबूत करने में किया जा रहा है।

गृह मंत्री ने बताई  ड्रोन हमलों की काट

गृहमंत्री अमित शाह ने शनिवार को कहा कि भारत में जल्द ही ‘स्वदेशी’ काउंटर-ड्रोन तकनीक में बड़ी उपलब्धि हासिल कर लेगा। उन्होंने बताया कि रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन और अन्य एजेंसियां एक स्वदेशी काउंटर ड्रोन तकनीक विकसित करने के लिए मिलकर काम कर रही हैं। सरकार ने ड्रोन रोधी अनुसंधान और विकास परियोजनाओं को पूरा समर्थन दिया है।

सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के 18वें अलंकरण समारोह में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह  ने कहा कि रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन  इस नए खतरे से उबरने के लिए ‘स्वदेशी’ एंटी-ड्रोन तकनीक विकसित करने के लिए काम कर रहा है। मुझे विश्वास है कि हम जल्द ही ड्रोन रोधी तकनीक में सुधार करेंगे। गृह मंत्री का यह बयान पिछले महीने जम्मू वायुसेना अड्डे पर ड्रोन हमले के बाद आया है।

About Samar Saleel

Check Also

Covid-19 LIVE: पिछले 24 घंटों में सामने आए संक्रमण के 41,831 नए केस, 541 मरीज़ों की मौत

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें देश में कोरोना  संक्रमित मरीजों की संख्‍या में ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *