Breaking News

पेट्रोल और डीजल के मूल्य में नहीं दिखा कोई परिवर्तन, जानिये आज का रेट

गुरुवार को लगातार दूसरे दिन पेट्रोल व डीजल की मूल्य में कोई परिवर्तन नहीं हुआ है. यानी आज ग्राहकों को एक लीटर पेट्रोल व डीजल के लिए बुधवार वाली मूल्य ही चुकनी होगी. इससे पहले मंगलवार को इसमें गिरावट दर्ज की गई थी. पेट्रोल के दाम पांच महीने के निचले स्तर पर हैं, वहीं डीजल करीब साढ़े सात महीने में सबसे सस्ता हो गया है.

चार महानगरों में इतने हैं पेट्रोल-डीजल के दाम

गुरुवार को दिल्ली, कोलकाता, मुंबई व चेन्नई में एक लीटर पेट्रोल की मूल्य क्रमश: 71.89, 74.53, 77.56 व 74.68 रुपये है. पेट्रोल का दाम 13 सितंबर, 2019 के बाद सबसे कम है. तब पेट्रोल की मूल्य 71.89 रुपये लीटर रही थी. वहीं डीजल की बात करें, तो दिल्ली, कोलकाता, मुंबई व चेन्नई में एक लीटर डीजल के लिए ग्राहकों को क्रमश: 64.65, 67.97, 67.75 और 68.27 रुपये चुकाने होंगे. यह पांच जुलाई 2019 के बाद सबसे निचला स्तर है.

प्रति दिन छह बजे बदलती है कीमत

बता दें कि प्रति दिन प्रातः काल छह बजे पेट्रोल व डीजल की कीमतों में परिवर्तन होता है. प्रातः काल छह बजे से ही नयी दरें लागू हो जाती हैं. पेट्रोल और डीजल के दाम में मूल्य में एक्साइज ड्यूटी, डीलर कमीशन व अन्य चीजें जोड़ने के बादल इसका दाम लगभग दोगुना हो जाता है.

कीमत तय करने का ये है आधार

विदेशी मुद्रा दरों के साथ अंतर्राष्ट्रीय मार्केट में क्रूड की कीमतें क्या हैं, इस आधार पर रोज पेट्रोल व डीजल की कीमतों में परिवर्तन होता है. इन्हीं मानकों के आधार पर पर पेट्रोल रेट व डीजल रेट रोज तय करने का कार्य ऑयल कंपनियां करती हैं.

पेट्रोल में कितना भाग कर का

खुदरा बिकने वाले पेट्रोल व डीजल के लिए जितनी रकम का आप भुगतान करते हैं, उसमें आप 55.5 प्रतिशत पेट्रोल के लिए व 47.3 प्रतिशत डीजल के लिए आप कर चुका रहे होते हैं.

डीलर भी जोड़ते हैं अपना मार्जिन

डीलर पेट्रोल पंप चलाने वाले लोग हैं. वे खुद को खुदरा कीमतों पर उपभोक्ताओं के अंत में करों व अपने खुद के मार्जिन जोड़ने के बाद पेट्रोल बेचते हैं. पेट्रोल रेट व डीजल रेट में यह कॉस्ट भी जुड़ती है.

About News Room lko

Check Also

निवेश चक्र की निरंतरता बनाए रखने के लिए सरकार का जोर बुनियादी ढांचे के विकास पर, रिपोर्ट में दावा

रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति रिपोर्ट- अप्रैल 2024 के अनुसार बुनियादी ढांचा क्षेत्र के विकास ...