Breaking News

अस्पतालों में नहीं पहुंचा ओपीडी खोलने का आदेश, वापस लौटे मरीज

उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण के कारण अस्पतालो में ओपीडी बंद चल रही थी। जिसके कारण सामान्य मरीजों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा था। सरकार ने अस्पतालों में चार जून से ओपीडी शुरू करने के निर्देश दिए थे। लेकिन राम मनोहर लोहिया संस्थान, लोकबंधु, केजीएमसी और हार्ट के हॉस्पिटल लारी मे ओपीडी के बाहर सन्नाटा पसरा रहा।

लोहिया के कर्मचारियों द्वारा बताया कि ओपीडी खुलने का अभी कोई आदेश नहीं आया है। हम आदेश का इंतजार कर रहे हैं। केवल स्त्री रोग विशेषज्ञ और वैक्सीनेशन को लेकर ही मरीज भी दिखे। सरकार द्वारा ओपीडी शुरू होने के निर्देश के बाद जो मरीज ओपीडी शुरू होने की सूचना में आए थे, उन्हें सुरक्षा गार्ड ने ओपीडी बंद होने की बात कहकर लौटा दिया। उधर राम मनोहर लोहिया में वैक्सीनेशन के लिए सुबह नौ बजे से ही भीड़ हो गई थी, लेकिन वैक्सीनेशन सुबह साढ़े नौ बजे के बाद शुरू हुआ। इससे आधे घंटे तक लोगों का इंतजार करना पड़ा।

केजीएमयू व लोकबंधु अस्पताल में भी ओपीडी शुरू होने का आदेश ना होने के कारण मरीजों को लौटना पड़ा।स्थानीय कर्मचारियों द्वारा बताया कि अगर आदेश की सूचना मिल जाती, तो स्टाफ व डाक्टर मौजूद होते। ओपीडी काउंटरों पर सन्नाटा पसरा रहा। वहीं सिविल अस्पताल की ओपीडी में जरूर भीड़ रही। सुबह से ही डाक्टरों को दिखाने के लिए पर्चा बनवाने वालों की लंबी भीड़ लगी रही।
बलरामपुर अस्पताल के नेत्र विभाग में जरूर कुछ मरीज डाक्टरों को दिखाते हुए मिले। वीरांगना अंवती बाई महिला अस्पताल की ओपीडी में जरूर कुछ महिलाओं ने ओपीडी खुलते ही पर्चा बनवाकर डाक्टरों को दिखवाया। दोनों ही हॉस्पिटल में ओपीडी का पहला दिन होने के कारण ज्यादा मरीज नहीं थे।

About Samar Saleel

Check Also

लविवि में ट्रांसजेंडर अधिकारों और ट्रांसजेंडर अधिनियम पर संवेदीकरण कार्यक्रम आयोजित

लखनऊ विश्वविद्यालय के समाज कार्य विभाग में आज ट्रांसजेंडर समुदाय के लोगों को समाज के ...