Breaking News

मन की बात : PM मोदी ने दिया सजगता का सन्देश

कोरोना संक्रमण से बचने के लिए जन जागरूकता का सर्वाधिक महत्व है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्र के नाम दो संदेशों के बाद मन की बात में भी यही दोहराया। लॉक डाउन वस्तुतः देश को बचाने का कठोर निर्णय है। मोदी इससे गरीबों को होने वाली कठिनाइयों को भी समझते है। वह कहते है कि लॉक डाउन के निर्णय से बहुत से लोग नाराज भी हुए होंगे। उनको बहुत मुसीबतों का सामना भी करना पड़ रहा होगा। लेकिन कोरोना के कहर से बचना इस समय की सबसे बड़ी आवश्यकता है। सामाजिक दूरी सुनिश्चित करने के अलावा इसका अन्य कोई विकल्प नहीं है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसके महत्व को पहले दिन ही समझ लिया था। इसीलिए उन्होंने सामाजिक दूरी बनाए रखने आह्वान किया था। इसके प्रारंभिक अभ्यास के लिए ही उन्होंने चौबीस घण्टे का जनता कर्फ्यू लगा किया था। इसके बाद इक्कीस दिन का लॉक डाउन घोषित किया गया। प्रारंभ से ही मोदी स्थिति की लगातार समीक्षा कर रहे है। पहला प्रयास यह किया गया कि कोरोना वायरस का कोई अनजाना संक्रमित देश में प्रवेश न करें। संक्रमण को रोकने यथासंभव प्रयास किया गया। पड़ोसी देशों बांग्लादेश, नेपाल,म्यामांर की सीमाओं से लेकर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डों, बंदरगाहों पर विशेष ध्यान दिया गया। थर्मल स्क्रीनिंग की व्यवस्था की गई।

कोरोना संक्रमित लोगों को आइसोलेशन वार्ड में पहुंचाया गया। प्रदेश सरकारों के साथ भी मोदी लगातार संवाद बनाये हुए थे। अनेक देश नरेंद्र मोदी द्वारा उठाये गए कदमों से प्रभावित हुए। इनमें से कई ने भारत में लागू फार्मूले पर अपने यहां अमल किया। भारत ने कोरोना संक्रमण को काबू में करने के लिए चीन की भी सहायता की है। नरेंद्र मोदी ने दक्षेस के सदस्य देशों के साथ वीडियो कांफ्रेसिंग करके बचाव व इलाज पर विचार विमर्श किया। विशेषज्ञ कह रहे है कि भारत की तैयारियों का सकारात्मक प्रभाव हो रहा है। दुनिया के अन्य देशों के मुकाबले भारत में इसका संक्रमण बहुत कम रहेगा। लेकिन इसके लिए जनता को भी जागरूकता दिखानी होगी। उन्हें लॉक डाउन के नियमों का पालन करना होगा।

Loading...

इस बार मन की बात में भी मोदी ने लोगों को सहयोग के लिए प्रेरित किया। कहा कि बीमारे से पहले ही बचाव के उपाय करना ठीक रहता है। सब लोगों को एकजुट होकर लॉकडाउन का पालन करने का संकल्प लेना होगा। लॉकडाउन में धैर्य दिखाना होगा। मोदी ने लॉक डाउन के प्रति लावरवाही को अनुचित करार दिया। कहा कि कुछ लोग कोरोना गंभीरता को नहीं समझ रहे हैं। कोई इस गलत फहमी में न रहें। कई देश बर्बाद हो गए। कोरोना से लड़ाई में अमूल्य योगदान देने वाले योद्धाओं का मोदी ने अभिनन्दन किया। कोरोना के संक्रमण चक्र तोड़ना अपरिहार्य है। तभी देश को इस मुसीबत से बचाया जा सकेगा।

रिपोर्ट-डॉ. दिलीप अग्निहोत्री

Loading...

About Samar Saleel

Check Also

राज्यसभा: 18 सीटों के लिए इस दिन होंगे चुनाव, EC ने किया तारीखों का ऐलान

चुनाव आयोग ने राज्यसभा की 18 सीटों के लिए होने वाले चुनाव की तारीखों का ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *