Breaking News

पीएम मोदी ने IMC 2022 प्रदर्शनी का उद्घाटन कर लॉन्च की 5G सर्विस, ‘जियो-ग्लास’ पहनकर खुद समझी तकनीक

नई  दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रगति मैदान में लगी IMC 2022 प्रदर्शनी का उद्घाटन कर देश को हाई स्पीड मोबाइल इंटरनेट सुविधा 5G की सौगात दी। इस दौरान उन्होंने जियो पवेलियन में प्रदर्शित ट्रू 5जी उपकरणों को देखा और ‘जियो-ग्लास’ को खुद पहन कर उसका अनुभव किया।

इस दौरान उन्होंने युवा Jio इंजीनियरों की एक टीम द्वारा एंड-टू-एंड 5G तकनीक (True 5G Device) के स्वदेशी विकास को भी समझा। उन्होंने जियो के युवा इंजीनियरों की टीम द्वारा एंड-टू-एंड 5G तकनीक के स्वदेशी विकास को समझने में समय दिया और यह जाना कि 5G तकनीक शहरी और ग्रामीण स्वास्थ्य सेवा के बीच की खाई को पाटने में कैसे मदद कर सकता है। बता दें कि IMC की शुरुआत पहली बार 2017 में की गई थी। पिछले दो साल से IMC का आयोजन वर्चुअल हो रहा था।

इस मौके पर प्रधानमंत्री के साथ दूरसंचार मंत्री अश्विनी वैष्णव, दूरसंचार राज्य मंत्री देवुसिंह चौहान, रिलायंस के चेयरमैन मुकेश अंबानी और रिलायंस जियो के चेयरमैन आकाश अंबानी भी उपस्थित थे।

देश वासियों को बधाई देते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि टेलीकॉम इंडस्ट्री की ओर से 130 करोड़ भारतीयों को 5जी के तौर पर एक शानदार उपहार मिला है। 5G, देश के द्वार पर नए दौर की दस्तक है। 5G, अवसरों के अनंत-आकाश की शुरुआत है।प्रधानमंत्री ने विपक्षियों पर भी हमला बोला। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार के प्रयासों से भारत में डेटा की कीमत बहुत कम बनी हुई है। ये बात अलग है कि हमने इसका हल्ला नहीं मचाया, बड़े-बड़े विज्ञापन नहीं दिए। हमने फोकस किया कि कैसे देश के लोगों की सहूलियत बढ़े, ‘ईज़-ऑफ-लिविंग’ बढ़े।
उद्घाटन सेशन में मुकेश अंबानी ने भरोसा दिलाया कि जल्द ही देश, 5जी की सुपरफास्ट इंटरनेट सेवाओं का आनंद ले पाएगा। दीवाली तक चुनिंदा मैट्रो शहरों में और 2023 के अंत तक पूरे देश के हर शहर और हर तालुका में 5 जी सर्विस शुरू कर दी जाएगी।
मुकेश अंबानी ने ईशारा किया कि दुनिया के मुकाबले भारत में 5जी सेवाएं सस्ती होंगी उन्होंने कहा कि “5G का रोलआउट भारत के दूरसंचार इतिहास में कोई सामान्य घटना नहीं है। देश ने भले ही थोड़ी देर से शुरुआत की हो, लेकिन हम दुनिया की तुलना में उच्च गुणवत्ता वाली और अधिक किफायती 5G सेवाओं को शुरू करेंगे।”
रिलायंस जियो के चेयरमैन आकाश अंबानी ने इंडिया मोबाइल कांग्रेस में पत्रकारों से बातचीत में कहा कि हर भारतीय के लिए डिवाइस और सर्विस दोनों को किफायती होना चाहिए।अंबानी ने 5G को डिजिटल कामधेनु बताया। उन्होंने प्रधानमंत्री के नेतृत्व में 5जी के लिए उठाए गए कदमों की सरहाना भी की और कहा कि 5G अगली पीढ़ी की कनेक्टिविटी तकनीक से कहीं बढ़कर है। यह एक मूलभूत तकनीक है जो आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, इंटरनेट ऑफ थिंग्स, रोबोटिक्स, ब्लॉकचैन और मेटावर्स जैसी अन्य टेक्नोलॉजी की पूरी क्षमता को पूरी तरह अनलॉक करेगी।
प्रधानमंत्री के सामने भारती एयरटेल के सुनील भारती मित्तल ने बेहद दिलचस्प बात कही। उन्होंने माना है कि रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड के चेयरमैन मुकेश अंबानी, बहुत तेज रफ्तार से टेक्नोलॉजी को आगे ले गए, और हमें यानी बाकी टेलीकॉम ऑपरेटर्स को भी अपनी स्पीड बढ़ानी पड़ी।

इस मौके पर बोलते हुए आरआईएल चेयरमैन मुकेश अंबानी ने कहा, “मैं आज पूरे दिल से कह सकता हूं कि भारतीय दूरसंचार उद्योग के रूप में, हमने जो प्रदर्शित किया है, उसपर मुझे बहुत गर्व है। सीओएआई और डीओटी दोनों से मैं कह सकता हूं कि अब हम नेतृत्व को तैयार हैं और भारतीय मोबाइल कांग्रेस को अब एशियन मोबाइल कांग्रेस और ग्लोबल मोबाइल कांग्रेस बन जाना चाहिए। यह विशेष अवसर है क्योंकि यह आजादी का अमृत महोत्सव के हमारे राष्ट्रीय उत्सव के वर्ष में हो रहा है। हमारे प्रिय प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने 2047 तक भारत को एक विकसित राष्ट्र बनाने का एक सपना देखा है। भारत को उस लक्ष्य की ओर ले जाने के लिए सरकार की हर नीति और हर कार्रवाई को कुशलता से तैयार किया गया है।”

5G नेटवर्क को दो मोड्स के तहत पेश किया जाएगा, पहला स्टैंडअलोन और दूसरा नॉन स्टैंडअलोन मोड। दोनों ही आर्किटेक्चर के अपने अलग-अलग फायदे और नुकसान हैं। टेलिकॉम ऑपरेटर दोनों में से किसी एक पाथ को चुन सकते हैं।

स्टैंडअलोन मोड्स को जियो ने चुना है। 5जी नेटवर्क के साथ एक डेडिकेटेड इक्विपमेंट की जरूरत होगी और यह 4जी नेटवर्क के समान ही काम कर सकती है। जबकि नॉन स्टैंडअलोन नेटवर्क के तहत 4जी कोर इंफ्रास्ट्रक्चर पर ही 5जी को पेश किया जा सकता है।

Video – पीएम मोदी ने IMC 2022 प्रदर्शनी का उद्घाटन कर लॉन्च की 5G सर्विस, ‘जियो-ग्लास’ पहनकर खुद समझी तकनीक

5G के फायदे

  • 5G तकनीक अरबों इंटरनेट ऑफ थिंग्स प्रोडक्ट को जोड़ने में मदद करता है और हाई स्पीड के साथ हाई क्वालिटी वाली वीडियो सेवाओं की लाभ मिलेगा।
  • 5G तकनीक की मदद से आपदाओं की वास्तविक समय निगरानी, ​​सटीक कृषि, खतरनाक औद्योगिक कार्यों जैसे गहरी खदानों, अपतटीय गतिविधियों आदि में मनुष्यों की भूमिका को कम करने में मदद करेगा।
  • 5G नेटवर्क एक ही नेटवर्क के अंदर अलग-अलग उपयोग के लिए कई प्रकार से सुविधाएं उपलब्ध कराने की कोशिश करेगा।

About Samar Saleel

Check Also

इमैनुएल मैक्रों ने अपने मित्र पीएम मोदी को लेकर कही ये बातें

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें एक दिसंबर को भारत के जी20 की अध्यक्षता ...