Breaking News

जमातियों की हरकतों पर मुस्लिम समुदाय की चुप्पी आपत्तिजनकः कृष्ण झा

नई दिल्ली। देश के जाने माने राजनीतिक रणनीतिकार, पॉलिसी मेकर व अखिल भारतीय प्रधान संगठन के राष्ट्रीय संयोजक कृष्ण झा ने इंदौर, मुजफ्फरपुर, जयपुर व अहमदाबाद समेत अन्य कई स्थानों पर मेडिकल टीम व पुलिसकर्मियों पर हुए हमले की कड़ी निंदा करते हुए सरकार से तत्काल कठोर कार्रवाई करने की मांग की है। झा ने कहा कि पूरे देश को भरोसा था कि हम अपने संयम और संकल्प के बलबूते लगातार पांव पसारते कोरोना महामारी को परास्त कर देंगे लेकिन तबलिगी जमात के जमातियों की क्रूर साजिश लोगों को डरा रही है। जो लोग ऐसा कर रहे हैं उन्हें जाहिल कहकर हल्के में नहीं लिया जा सकता बल्कि इसे अमानवीय व्यवहार मानते हुए उनसे उसी तरह से निपटा जाना चाहिए।

झा ने कहा कि एक तरफ डॉक्टर और नर्स के साथ तमाम हेल्थ वर्कर्स कोरोना मरीजों की जान बचा रहे हैं। दूसरी तरफ तबलीगी जमात के कोरोना संदिग्ध जाहिलियत पर उतर आए हैं। गाजियाबाद के एमएमजी में भर्ती जमाती लगातार अस्पताल स्टाफ के साथ दुर्व्यवहार कर रहे हैं। इतना ही नहीं, ये लोग नर्सों के सामने नंगे होकर गंदे अश्लील हरकते कर रहे हैं हैं। इनकी हरकतें तो तभी देश ने देख ली थी जब निजामुद्दीन की मरकज से इन्हें बसों में ले जाया जा रहा था। उस समय इन्होंने हेल्थवर्करों पर थूकना शुरू कर दिया था। यही काम वे रेलवे कैंप में भी कर रहे हैं। थूक के जरिए कोरोना का संक्रमण फैलाने की इस घृणित कार्य को अगर एक वर्ग जेहाद का नाम दे रहा है तो ऐसा करने के लिए ये स्वयं जिम्मेदार हैं।

झा ने इस पर अफसोस जताया कि इन सबके बावजूद मुस्लिम समुदाय न केवल खामोश है बल्कि इनके बचाव में उल्टी सीधी दलीलें दे रहा है। उन्होंने इसे बेहद शर्मनाक करार देते हुए सरकार से इनके खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई करने की मांग की। यही नहीं, जांच करने गई मेडिकल टीम पर पथराव भी सोचने पर मजबूर कर रहा है। इंदौर के ताटपट्टी भक्खल में एक शख्स की जांच करने पहुंचे स्वास्थ विभाग की टीम पर लोगों ने यह कहते हुए पथराव कर दिया कि यहां कोई भी कोरोना पीड़ित नहीं है।

इसी तरह उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में कुछ लोगों को घरों में रहने की नसीहत इतनी नागवार गुजरी कि उन्होंने पुलिसकर्मियों पर हमला कर दिया। इस हमले में एक सब इंस्पेक्टर और एक कॉन्स्टेबल घायल हो गए हैं। झा ने कहा कि दिल्ली के निजामुद्दीन में तबलीगी जमात में कई लोगों के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद भी कई मस्जिदों में इसी तरह के जमात की खबरें आ रही हैं। ऐसी ही एक सूचना के आधार पर बिहार की मधुबनी पुलिस तहकीकात करने पहुंची थी। लेकिन मस्जिद में मौजूद लोगों ने पुलिस पर ना सिर्फ पथराव किया बल्कि फायरिंग भी कर दी। मुंगेर में भी इसी तरह का वाकया सामने आया है। यहां एक बच्‍ची की मौत के बाद मेडिकल टीम जांच के लिए गई थी लेकिन यहां भी उसे पथराव का सामना करना पड़ा। इसी तरह की खबरें अहमदाबाद, जयपुर व बेंगलुरू से भी आ रही हैं।

झा ने इसे देशद्रोही कृत्य करार देते हुए इन पर मानवता को संकट में डालने का आरोप लगाया। साथ ही इन पर रासुका के तहत कार्रवाई किये जाने की मांग की। उन्होंने मस्जिद में छिपे जमातियों के पकड़े जाने को लेकर सोशल मीडिया पर वैष्णों देवी में तीर्थयात्रियों के फंसे होने की फर्जी खबरें वायरल कर छिपे और फंसे जैसे शब्दों के जरिए एक अलग नेरेटिव सेट करने के दुष्प्रयास पर आपत्ति व्यक्त की। झा के मुताबिक कहा जा रहा है कि वैष्णों देवी में फंसे है और मस्जिदों में छिपे हैं, जबकि यह खबर पूरी तरह से फर्जी है। वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड ने बयान जारी कर कहा है कि एक भी तीर्थयात्री वैष्णो देवी में नहीं है। इस तरह की फर्जी खबरों के जरिए तब्लीगी जमात के गुनाह को छिपाने की कोशिश करने वालों को स्लीपर सेल का सदस्य करार देते हुए झा ने इन लोगों पर भी सख्त कार्रवाई किये जाने की मांग की।

पांच अप्रैल रविवार की रात नौ बजे नौ मिनट तक अपने घरों की लाइट बंद कर अपने घरों के दरवाजे पर या फिर बालकनी पर आकर रोशनी प्रज्वलित करने की प्रधानमंत्री मोदी की अपील का स्वागत करते हुए झा ने कहा कि हम सबको मिलकर कोरोना के संकट के अंधकार को चुनौती देनी है। उसे प्रकाश की ताकत का परिचय करना है। इस 5 अप्रैल को हमें 130 करोड़ देशवासियों की महाशक्ति का जागरण करना है। उन्होंने कहा कि जिस तरह जनता कर्फ्यू के दिन हमने कोरोना से दो दो हाथ कर रहे डॉक्टरों, पुलिसकर्मियों, सफाईकर्मियों व अन्य लोगों के लिए ताली, थाली, घंटी व शंख बजाकर अपनी एकता प्रदर्शित की थी उसी तरह पांच अप्रैल को रात 9 बजे 9 मिनट तक दिये जलाकर कोरोना को परास्त करने का प्रण लेंगे और इसमें कामयाब भी होंगे।

About Samar Saleel

Check Also

पहाड़ों पर भारी बारिश के कारण जनजीवन हुआ अस्त व्यस्त, बदरीनाथ हाईवे सहित चमोली की 21 सड़कें बंद

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें उत्तराखंड में भूस्खलन और मलबे से बदरीनाथ हाईवे ...