Breaking News

सनातन संस्कृति का मूल है जनजातीय संस्कृति- डॉ. मनोज कांत

लखनऊ। जनजातीय संस्कृति भारतीय संस्कृति का मूल है, हम सभी विकास के अनुक्रम में विभिन्न भौतिक आयामों से आबद्ध होकर अपने मूल से भटक कर अपने वर्तमान स्वरूप में आ गए हैं जिसे हम आधुनिकता कहते हैं। यह बातें बप्पा श्री नारायण वोकेशनल स्नातकोत्तर महाविद्यालय में आयोजित जनजाति गौरव दिवस कार्यक्रम में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के वरिष्ठ प्रचारक डॉ मनोज कांत द्वारा कही गई।

विद्या भारती उच्च शिक्षा संस्थान एवं शिक्षा शास्त्र विभाग बप्पा श्री नारायण वोकेशनल स्नातकोत्तर महाविद्यालय के संयुक्त तत्वावधान में भगवान बिरसा मुंडा की जयंती के अवसर पर “जनजातीय गौरव दिवस” का आयोजन किया गया। आयोजन में मुख्य अतिथि के रूप में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के वरिष्ठ प्रचारक एवं संघ के मुखपत्र राष्ट्रधर्म के निदेशक डॉ मनोजकांत, विशिष्ट वक्ता के रूप में वरिष्ठ आईएएस अधिकारी सतीश पाल एवं डॉ राम मनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति प्रो संजय सिंह सम्मिलित हुए।

भारत सरकार द्वारा वर्ष 2021 से बिरसा मुंडा की जयंती को जनजातीय गौरव दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लिया गया। शिक्षा मंत्रालय एवं विश्वविद्यालय अनुदान आयोग द्वारा विभिन्न उच्च शिक्षण संस्थानों में यह दिवस पूर्ण उत्साह के साथ मनाने का निर्णय लिया गया। #बीएसएनवी पीजी कॉलेज लखनऊ में आयोजित इस कार्यक्रम का शुभारंभ सरस्वती पूजन एवं दीप प्रज्वलन के साथ हुआ। कार्यक्रम का संचालन कर रहे विद्या भारती उच्च शिक्षा संस्थान के प्रदेश सचिव डॉ मञ्जुल त्रिवेदी ने कहा एक राष्ट्र के रूप में भारत के विकास यात्रा में विभिन्न समुदाय संस्कृतियों के महापुरुषों का अनन्य योगदान रहा है “धरती काबा” भगवान बिरसा मुंडा की जयंती को जनजातीय गौरव दिवस के रूप में मना कर देश आज उनके योगदान को याद करते हुए संपूर्ण जनजातीय समाज को आदर दे रहा है। विद्या भारती उच्च शिक्षा संस्थान पूर्वी उत्तर प्रदेश क्षेत्र के संयोजक प्रोफ़ेसर जय शंकर पांडे ने कार्यक्रम में सम्मिलित होने वाले अतिथियों का स्वागत करते हुए इस विमर्श को महत्वपूर्ण बताया।

विशिष्ट वक्ता के रूप में उपस्थित हुए वरिष्ठ आईएएस अधिकारी सतीश पाल ने विषय पर अपने विचार रखते हुए बताया कि जनजातियों का अस्तित्व विश्व के विभिन्न क्षेत्रों में रहा है जिनकी अपनी विशिष्ट संस्कृति रही है। इस दौरान उन्होंने भारत के विभिन्न जनजातियों की सांस्कृतिक विरासत का उल्लेख करते हुए उनके संरक्षण एवं संवर्धन की आशा व्यक्त की।

जनजातीय गौरव दिवस के अवसर पर मुख्य वक्ता के रुप में सम्मिलित हुए डॉ मनोज कांत ने बिरसा मुंडा की जन्म जयंती को जनजाति गौरव दिवस के रूप में मनाए जाने पर हर्ष व्यक्त करते हुए बताया कि #बिरसा_मुंडा को शिक्षित करने के लिए उनके माता-पिता को अपना उनका धर्म परिवर्तित करना पड़ा। बिरसा मुंडा ने प्रारंभिक शिक्षा के बाद असंतोष से अंग्रेजी विद्यालय से पढ़ाई छोड़ दी इसके बाद उन्होंने चर्चे हम अंग्रेजों के विरुद्ध एक मुहिम छेड़ दी। बिरसा मुंडा ने कहा कि धर्म परिवर्तन अपराध है चर्च वर्क चलाने वाले लोग हमें बदलना चाहते हैं हमें किसी भी प्रकार से हिंसा का मार्ग नहीं अपनाना चाहिए तथा अपनी परंपराओं को संरक्षित करना चाहिए प्रकृति पूजा को भी उन्होंने विशेष प्रोत्साहन दिया इनकी लोकप्रियता से घबराकर ब्रिटिश सरकार ने इन्हें गिरफ्तार भी कर लिया था।

डॉ मनोज कांत ने बताया कि जनजातियों की संस्कृति हमारी मूल संस्कृति रही है विकास के विभिन्न पड़ाव पर हम भौतिक समृद्धि प्राप्त करते चले गए और आज एक तथाकथित आधुनिक स्वरूप में स्वयं को परिमार्जित मानने लगे हैं जबकि यह विरोधाभास की स्थिति है।

जनजातीय समाज की सांस्कृतिक विशेषताओं को बताते हुए उन्होंने बताया कि विभिन्न में जनजातियों में आज भी किसी भटके राही के लिए भोजन रखने की परंपरा है जो कि अनुकरणीय है। जनजातियों के लिए प्रयुक्त होने वाले विभिन्न शब्द आदिवासी वनवासी आज के संदर्भ में अपने विचार देते हुए मनोज कांत ने कहा कि या पश्चिम का षड्यंत्र है कि उन्हें यहां का मूल निवासी तथा अन्य को बाहर से आया हुआ बता कर यहां सामाजिक विद्वेष पैदा करें। जनजातीय समाज की विशिष्ट सांस्कृतिक विशेषताओं को बताते हुए उन्होंने “परंपरा” शब्द का अद्वितीय विश्लेषण प्रस्तुत करते हुए इसे पर-अपर शब्द के रूप में विष्लेषित करते हुए कहा कि परम्परा में आधुनिकता स्वयंमेव सम्मिलित है।

कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के रुप में सम्मिलित हुए डॉक्टर राम मनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति प्रोफ़ेसर संजय सिंह ने #जनजातीय_समाज की #जनांकिकी पर आंकड़े प्रस्तुत करते हुए इनके विकास क्रम का रेखांकन किया। इसके साथ ही उन्होंने जनजातीय सामासिक संस्कृति के संरक्षण हेतु विभिन्न सरकारी एवं गैर सरकारी प्रयासों का भी उल्लेख किया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए शिक्षा शास्त्र विभाग के विभागाध्यक्ष प्रोफेसर अनिल कुमार पांडे ने कहा की भारत की मूल संस्कृति को नष्ट करने के लिए अंग्रेजों ने अनेक प्रयास किए लेकिन फिर भी जनजातीय समाज अपनी मौलिकता को कायम रखते हुए आज भी अपनी गौरवशाली परंपरा का निर्वहन कर रहा है। डॉ. पांडे ने धर्मपाल द्वारा लिखित पुस्तक ब्यूटीफुल ट्री का इस संदर्भ में उदाहरण देते हुए बताया कि हम क्या थे और कहां आ गए? इसे जानना है तो हमें यह पुस्तक अवश्य पढ़नी चाहिए।

कार्यक्रम में महाविद्यालय के शिक्षक प्रो जय प्रताप सिंह, प्रो गीतारानी, प्रो सीएल बाजपेयी, प्रो रश्मि गुप्ता, डॉ प्रणव कुमार मिश्र, डॉ उमेश सिंह, डॉ प्रमिला पांडेय आदि सहित विभिन्न शिक्षक एवं विद्यार्थीगण उपस्थित रहे।

About Samar Saleel

Check Also

छुप छुप कर मिलने वाले प्रेमी युगल को ग्रामीणों ने पकड़ा, करवाई शादी

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें रायबरेली। आम के बाग में चोरी छिपे मिल ...