मरीज़ की मौत पर तीमारदारों ने किया बवाल , मुकदमा दर्ज़

लखनऊ- राजधानी के केजीएमयू मे अक्सर बवाल का मामला सामने आता रहता है । ऐसे मामलों मे कभी अस्पताल प्रशासन की लपारवाही तो कभी तीमारदारों की दबंगई सामने आती है । ऐसा ही एक मामला प्प्रकाश मे आया है जहां वेंटिलेटर ना मिलने से नाराज़ तीमारदारों ने जमकर हँगामा काटा व अस्पताल पीआरओ से मार पीट किया । हंगामे व मारपीट से नाराज डाक्टरों व स्टाफ ने बुधवार को काफी देर तक काम नही किया और केजीएमयू प्रशासन से आरोपितों की जल्द गिरफ्तारी की मांग की।

प्राप्त जानकारी के अनुसार अस्तबल यहियागंज निवासी रंजीत निगम 45 टिफिन का काम करते थे व मिर्गी रोग से भी पीड़ित थे मंगलवार रात वे खाना खाने के बाद छत पर टहलने गये थे तभी उन्हे मिर्गी का अटैक पड़ गया और वे तीसरी मंजिल से नीचे आ गिरे। आनन फानन में घरवाले उन्हे लेकर ट्रामा सेंटर पंहुचे जहां पर रंजीत का डाक्टरों ने उपचार शुरू किया देर रात रंजीत की हालत बिगड़ने लगी तो डाक्टरों ने उसे वेंटीलेटर पर रखने की सलाह दी।  रंजीत के घरवाले जब उसे ऊपर वेंटीलेटर कक्ष में पंहुचे तो वहां पर पहले से ही सभी वेंटीलेटर पर मरीज थे और उसे वेंटीलेटर नही मिल सका वहीं दूसरी तरफ रंजीत के जानने वालों की संख्या भी लगातार वहां पर बढ रही थी तभी किसी ने उन लोगो से कह दिया कि पीआरओ चाहें तो वेंटीलेटर मिल सकता इस पर भीड़ ने मौके पर ड्यूटी पर तैनात पीआरओ राजेश सिंह को घेर लिया और वेंटीलेटर दिलाने की मांग करने लगे जब राजेश ने उन्हे वेंटीलेटर खाली न होने की बात कह कर मना कर दिया तो वे लोग नाराज हो गये और उन्होन राजेश के साथ अभद्रता कर मारपीट शुरू कर दी। ट्रामा पीआरओ ने बताया कि जब कर्मचारियों बीच बराव कराने की कोशिश की तो उन लोगो ने उनसे भी अभद्रता की। जब पुलिस को सूचना दी गयी तो मारपीट कर दबंग लोग वहां से भाग निकले। मारपीट में पीआरओ राजेश सिंह को काफी चोट लगीं हैं।

क्या कहते है जिम्मेदार ?

जब रंजीत को वेंटीलेटर की जरूरत पड़ी तो उसे वेंटीलेटर नही दिया गया और वेंटीलेटर के एवज में उनसे पैसों की मांग की गयी यदि समय पर वेंटीलेटर मिल जाता तो शायद रंजीत की जान बच जाती। – मृतक रंजीत के परिजन

ट्रामा में भर्ती मरीज की मौत के बाद हंगामा व पीआरओ के साथ मारपीट की शिकायत व पीआरओ राजेश सिंह की तहरीर पर  के शशांक निगम व अन्य खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है सीसीटीवी फुटेज के आधार पर दोषियों की पहचान कर कार्यवाई की जायेगी- इंस्पेक्टर चौक

 देर रात रंजीत नाम के युवक को लाया गया था जिसके सिर पर गंभीर चोट थी जिसे कैजुएल्टी वार्ड में भेजा गया था उसे वेंटीलेटर की जरूरत थी पर कोई वेंटीलेटर खाली नही होने पर इंतजार करने को कहा गया परंतु परिजन भड़क गये और मारपीट शुरू कर दी।- ट्रामा पीआरओ (प्रज्ञानन्द )

About Samar Saleel

Check Also

रायबरेली के लिए जो सोनिया गांधी नहीं कर पाईं, जाते-जाते उसे पूरा कर गए अरुण जेटली

पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली के पार्थिव शरीर को रविवार को पूरे राजकीय सम्मान के ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *