अखिलेश को नमाजवादी कहने पर अमर सिंह को सपाइयों ने शकुनि बताया

लखनऊ। पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को नमाजवादी कहने पर भड़के सपाइयों ने पूर्व समाजवादी नेता अमर सिंह की तुलना महाभारत के शकुनि से कर डाली। आपको बता दें दरअसल, अमर सिंह ने हाल ही में एक वीडियो जारी कर अखिलेश को नमाजवादी बताने के साथ ही समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता आजम खां के खिलाफ भी आपत्तिजनक टिप्पणी की थी। उनकी इस टिप्पणी पर समाजवादी पार्टी की ओर से तीखी प्रक्रिया आई है। समाजवादी पार्टी के पूर्व विधायक और पूर्व सरकार में मंत्री रहे शाहिद मंजूर ने कहा कि अमर सिंह पर हमलो बोलते हुए कहा कि अमर सिंह अपना वजूद भूल रहे हैं। वे सूरज को शीशा दिखा रहे हैं। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि अमर सिंह मौकापरस्त व्यक्ति है। जब तक समाजवादी पार्टी में रहे परिवार में लड़ाई कराते रहे। उन्होंने अमर सिंह की तुलना महाभारत के शकुनी से की। उन्होंने कहा कि शकुनी का काम पांडवों और कौरवों को लड़ाने का था, जिससे उसके अपने हित पूरे होते जा रहे। उसी तरह से जब तक समाजवादी पार्टी में अमर सिंह रहे वे समाजवादी परिवार की एकता को नहीं देख सके। जब तक पार्टी में रहे शकुनी की भूमिका में रहे। उन्होंने कभी पार्टी हित और देश हित की बात नहीं की। यह सब वह भाजपा के इशारे पर कर रहे हैं।

समाजवादी पार्टी के नहीं नमाजवादी पार्टी

मुलायम सिंह यादव के कभी बेहद करीबी रहे अमर सिंह ने एक वीडियो क्लिप जारी कर सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के विष्णु मंदिर बनाने के दावे पर सवाल खड़े किए। उन्होंने आजम खां के बहाने अखिलेश पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा कि अखिलेश समाजवादी पार्टी के नहीं, नमाजवादी पार्टी के अध्यक्ष हैं।

तुम्हारे पिता मेरे परिवार के आंसू

उन्होंने आजम पर बेहद आपत्तिजनक टिप्पणियां की। अखिलेश को संबोधित करते हुए अमर ने आरोप लगाया है कि तुम्हारे पिता के राजनीतिक पुत्र आजम खां ने एक बयान में कहा है कि अमर सिंह को काट देना चाहिए। मेरी बेटियों पर तेजाब फेंकना चाहिए। इसके साथ ही अमर सिंह ने वीडियोे में कहा है कि आपके और आपके परिवार में भी बेटियां और बहुएं हैं, लेकिन हमने उनकी मदद की थी। इसके बावजूद जब तुम लोगों की वजह से मैं जेल में था, तब न तुम आए और न ही तुम्हारे पिता मेरे परिवार के आंसू पोंछने आए।

सांप्रदायिकता का तमगा

अमर सिंह ने आजम पर हमला बोलते हुए उन्हें राक्षस बताया और कहा कि उनके खिलाफ देश के हिंदू समाज से अपील करूंगा। इसके लिए मुझे सांप्रदायिकता का तमगा बेशक मिले। अमर सिंह ने कहा कि धर्मनिरपेक्षता का मतलब स्वाभिमान त्यागना नहीं है। मैं अशफाक उल्लाह खां और अब्दुल कलाम जैसे राष्ट्रवादी मुसलमानों का सम्मान करता हूं।

ईंट का जवाब पत्थर

अमर ने कहा, मैंने बड़ी स्क्रीन पर इस वीडियो को गांव-गांव और गली-गली नहीं दिखाया तो क्षत्रीय नहीं। क्षत्रीय का अर्थ समझाते उन्होंने कहा “12 बरस तक कुकुर जीवे, 16 बरस तक जिये सियार, बरस 18 क्षत्रीय जीवे, आगे जीवन को धिक्कार।” श्री सिंह ने कहा, मैं उनकी एक-एक चुनौती का सामना करने को तैयार हूं। ईंट का जवाब पत्थर से नहीं दिया तो क्षत्रिय की औलाद नहीं।

ये भी पढ़ें –Arabian Sea : नाव डूबी 6 मछुआरे तैर कर बाहर 1 लापता

अतुल मोहन
अतुल मोहन

About Samar Saleel

Check Also

कछुओं ने महिला को बनाया शिकार

आगरा। शमसाबाद के गांव बांस बले में बुजुर्ग महिला को कछुओं ने हमला कर शिकार ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *