Breaking News

महराजगंज ब्लॉक के ग्राम प्रधानों से रूबरू हुए डॉ. कुमार विश्वास

कवि पंकज प्रसून द्वारा रायबरेली में संचालित गांव बचाओ मुहिम में आज कवि डॉ. कुमार विश्वास महराजगंज ब्लॉक के ग्राम प्रधानों से रूबरू हुए। पंकज प्रसून से बातचीत में उन्होंने कहा कि कवियों के बारे में आम राय होती है कि वह जन सरोकार की बातें तो करते हैं लेकिन जमीन पर आकर काम नहीं करते हैं। उन्होंने कहा कि जाने माने कवि पंकज प्रसून, गजेंद्र प्रियांशु, अभय निर्भीक व अमन अक्षर जैसे कवि गांवों गांवों में किट लेकर पहुंचे उसके बाद तो देखते देखते 8 राज्यों के 700 गांवों में कोविड केयर सेन्टर बन गए। इससे पहले महराजगंज की एसडीएम ने सबका स्वागत स्वागत करते हुए बताया कि इस मुहिम से यहां की जनता को बहुत फायदा हो रहा है। यहां पर केवल 13 एक्टिव केस है बाकी लोग निगेटिव हो चुके हैं।

बताया पंकज प्रसून का किस्सा

उन्होंने कहा कि पंकज प्रसून ने ट्वीट किया था कि वह रायबरेली के गांवों के लिए अभियान चला रहे हैं, और उनको कन्संट्रेटर चाहिए। उन्होंने सोनू सूद से कहा कि वह भेज दें वरना उन्हें ही भेजना पड़ेगा। फिर पंकज प्रसून को शाम तक ही कनसंट्रेटर मिल गए। उन्होंने नव निर्वाचित ग्राम प्रधानों को विशेष रूप से धन्यवाद देते हुए कहा कि प्रधानों ने अपने गांवों में वह कर दिखाया है जो नेता,विधायक नहीं कर पाए। नेता वह नहीं जो जनता की वोट पाने के लिए चुनाव लड़े बल्कि नेता वह है जो ऐसी आपदा में जनता के बीच जाकर काम करे। उन्होंने बताया कि सात राज्यों के मुख्यमंत्रियों से उन्होने बात कह के बताया की यह लड़ाई सरकार अकेले लड़ कर नहीं जीत सकती है। राम अकेले लंका नहीं जीत पाए। बिना जन सहयोग के यह लड़ाई लड़नी असम्भव थी।

कुमार विश्वास और पंकज प्रसून के बीच की चुटकियां

पंकज प्रसून ने बताया कि हमारे साथ एलोपैथी और आयुर्वेद दोनों विधा के चिकित्सक जुड़े हैं, तो कुमार विश्वास ने चुटकी लेते हुए कहा-यह आज के दौर का सबसे दुर्लभ दृश्य है जब दोनों साथ बैठ कर मुस्कुरा रहे है।

कुमार विश्वास ने पंकज प्रसून के साथ संवाद में बताया कि जब उनकी किट गांवों में पहुंचती है तो लोग कहते हैं कि कोई बंगाली डॉक्टर आ गया है जो गांव में घर घर दवा बांट रहा है।

उन्होने पंकज प्रसून से कहा कि कोविड के खात्मे के बाद वह लखनऊ में सभी ग्राम प्रधानों को आमंत्रित करें। कविता सुनाने वह स्वयं आएंगे।
इस पर पंकज प्रसून ने कहा कि सौभाग्य कि कोविड केयर किट के साथ अब कुमार विश्वाज़ भी फ्री में मिल जायेंगे।

पंकज प्रसून ने जब कहा कि आप को आज बहुत लोग सुनना चाहते थे लेकिन ज़ूम पर 100 लोगों की ही लिमिट होती है। और ज़ूम का पेड वर्जन है नहीं मेरे पास तो वह बोले कि पूरे अभियान में ही कुछ भी पेड नहीं है। सरकार के आरोग्य सेतु ऐप बनाया तो हम लोगो ने गांव गांव में आरोग्य के सेतु बना डाले।

क्या बोले डॉक्टर्स

सेमिनार में एसजीपीजीआई लखनऊ के चिकित्सक डॉ ज्ञान चंद ने कहा कि कोविशील्ड और कोवैक्सीन दोनों ही प्रभावी हैं इसलिए मन मे इनको लेकर भ्रम न पालें। तीन स्टेज के क्लीनिकल ट्रायल के बाद ही वैक्सीन को मान्यता दी गई है। उन्होंने कहा कि शोध द्वारा यह सिद्ध हो चुका है कि गर्भवती महिलाएं व दूध पिलाने वाली माएँ भी वैक्सीन लगवा सकती हैं। गम्भीर बीमारियों से पीड़ित रोगियों को तुरन्त वैक्सीन लगवानी चाहिये।

उन्होने कहा की टीकाकरण से संक्रमण और इससे होने वाली मृत्यु दर को कम करने में मदद मिलती है लेकिन हमारे पास ऐसे पर्याप्त उदाहरण नहीं हैं जिसके आधार पर माना जा सके कि यह ट्रांसमिशन को कितने प्रतिशत तक कम कर सकती है? ऐसे में टीकाकरण के बाद भी आपको संक्रमण से सुरक्षित रहने के लिए सुरक्षात्मक उपायों को प्रयोग में लाते रहना चाहिए।

राजीव दीक्षित होस्पिटल के डॉ दीना नाथ ने बताया कि कोविड से रिकवरी के बाद तीन महीनों तक आपको हल्की खांसी आ सकती है, कमजोरी रह सकती है। इससे घबराएं नहीं। ठीक होने के बाद कोरोना मरीजों को ऑक्सीजन सैचुरेशन, ब्लड प्रेशर और शुगर लेवल जैसे मापदंडों पर नजर रखनी जरूरी है।सबसे आम जटिलताएं , जो हम रिकवरी के बाद देख रहे हैं, वे श्वसन प्रणाली से संबंधित हैं, जैसे कि इंटरस्टीशियल लंग डिजीज, इडियोपैथिक पल्मोनरी फाइब्रोसिस और ब्रोंकाइटिस।

ऐसे में अपने स्वास्थ्य पर नज़र रखती ज़रूरी है।उन्होमे बताया चूंकि अभी भी सामुदायिक स्तर पर कोरोना से जीत नहीं मिली है इसलिए सिर्फ बहुत आवश्यकता होने पर ही यात्रा करें। अनायास की यात्रा से बचें। राष्ट्रीय वनस्पति अनुसंधान संस्थान, लखनऊ के प्रधान वैज्ञानिक डा संजीव ओझा ने बताया कि आप काढ़ा, हल्दी दूध, गिलोय का नियमित सेवन करते रहेंगे तो तो इम्यूनिटी मजबूत होगी। ऐसे में तीसरी लहर आपका ज्यादा कुछ नहीं बिगाड़ पाएगी।

About Samar Saleel

Check Also

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर होगी डिजिटल प्रतियोगिता, मिलेंगे पुरस्कार

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें लखनऊ। कोरोना के कारण इस बार सातवें अंतर्राष्ट्रीय ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *