ग्रामोफोन

संजय वर्मा "दृष्टि "

ग्रामोफोन

पानी में कंकर फेकने से
उठती तरंग गोल घेरों में
ऐसे लगती जैसे पानी में
ग्रामोफोन सजाया हो

तट पर बैठ कर
विचारों से उभरे गीत
बार -बार फैंके गए कंकरों से
हर बार नए रिकार्ड लगाने की
अनुभूति महसूस करता हूँ

Loading...

ये तो महज
पानी के बुलबुलों के मध्य
उठती घुमती तरंगे
क्षण भर में ही मिट जाएगी

संजय वर्मा “दृष्टि ” (म.प्र.)

Loading...

About Samar Saleel

Check Also

मौन का संगीत

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें मौन का संगीत अब किसी के दिल में ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *