Breaking News

JNU के छात्रों पर पुलिस ने क‍िया लाठीचार्ज

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के छात्रों में वहां के टीचर्स द्वारा यौन उत्पीड़न, क्लास में अनिवार्य उपस्थिति जैसे कई मामलों को लेकर आक्रोश फैला है। जिसके चलते जेएनयू स्‍टूडेंट और टीचर्स असोसिएशन का व‍िरोध जारी है। इसी को लेकर निकले गए मार्च में JNU के छात्रों और पुलिस के बीच झड़प हो गयी।

JNU छात्रों पर लाठीचार्ज

द‍िल्‍ली स्‍थ‍िति‍ जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय यानी क‍ि जेएनयू के छात्रों ने टीचर्स द्वारा यौन उत्पीड़न जैसे विषयों को लेकर कल पार्लियामेंट तक मार्च निकाला। इसे रोकने के लिए पुल‍िस ने वाटर कैनन और लाठ‍ी चार्ज क‍िया जिसके चलते मामला और ज्‍यादा संवेदनशील हो गया है।

लाठीचार्ज से कई छात्र जख्मी

द‍िल्‍ली में कल जेएनयू के स्‍टूडेंट और टीचर JNU कैंपस से पार्लियामेंट तक पैदल मार्च के ल‍िए न‍िकले थे। इस दौरान पुल‍िस ने उन्‍हें आईएनए मार्केट के पास यह कहकर रोक दियाक‍ि व‍िरोध कर रहे स्‍टूडेंट और टीचर्स को इसके आगे जाने की अनुमत‍ि नहीं हैं।

इस घटना को लेकर एक पुलि‍स अध‍िकारी का कहना है क‍ि इसके बाद भी जब स्टूडेंट नहीं माने तो पुल‍िस कर्मि‍यों द्वारा उन्‍हें रोकने के ल‍िए वाटर कैनन का इस्‍तेमाल कि‍या गया। पुल‍िस द्वारा ल‍िए गए इस एक्‍शन में कुछ स्‍टूडेंट घायल भी हुए।

Loading...
सुष्मिता देव और वृंदा करात भी हैं छात्रों के साथ

बता दें कि इस मामले को लेकर महिला कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सुष्मिता देव और मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी की नेता वृंदा करात भी स्‍टूडेंट के व‍िरोध में जुड़ चुकी हैं। उनका कहना है कि हम खुले तौर पर स्‍टूडेंट और टीचर्स के साथ हैं।
महिला कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सुष्‍म‍िता देव का कहना है क‍ि अध‍िकार‍ियों को नहीं समझ आता है क‍ि विद्वान या शोधकर्ता की शैक्षणिक क्षमताओं को जज करने के ल‍िए अटेंडेंस एक पैरामीटर नहीं हो सकता है।
वहीं वृंदा करात का कहना है क‍ि यह बेहद शर्मनाक मामला है। जेएनयू वाइस चांसलर जगदास कुमार यौन उत्पीड़न के मामले में आरोपी को बचाने का प्रयास कर रहे हैं। आरोपी लाइफ सांइस के प्रोफेसर अतुल जौहरी के ख‍िलाफ एक नहीं करीब आठ श‍िकायतें आई हैं।

बता दें की जेएनयू के स्‍टूडेंट और टीचर लगातार अभियुक्त प्रोफेसर को हटाने की मांग कर रहे हैं। ऐसे में जब स्‍टूडेंट को इस मामले में यूनवर्स‍िटी से न्‍याय नहीं म‍िला तो वे अब मजबूरी में सड़क पर व‍िरोध करने उतरे हैं।
प्रोफेसर का कहना है क‍ि वह बेगुनाह है। यूनवर्स‍िटी के कुछ लोगों द्वारा उन्‍हें राजनीत‍ि के तहत बदनाम करने की कोश‍िश की जा रही है।

बीते मंगलवार किया गया था अरेस्‍ट

बीते सोमवार को जेएनयू के स्‍टूडेंट ने बसंत कुंज पुल‍िस स्‍टेशन पहुंचे थे। उन्‍होंने वहां साफ कह द‍िया था क‍ि जब तक लाइफ सांइस के प्रोफेसर अतुल जौहरी को अरेस्‍ट नहीं क‍िया जाएगा तब तक वे क्‍लास नहीं अटेंड करेंगे।
ऐसे में प्रोफेसर को इस मामले को लेकर पुलिस ने मंगवार को अरेस्‍ट क‍िया ,लेक‍िन कुछ घंटे बाद बेल देकर छोड़ द‍िया गया।

Loading...

About Samar Saleel

Check Also

GODHARA CASE: नानावती आयोग रिपोर्ट में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को मिली क्लीन चिट, यहां देखें

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के लिए एक राहत देने वाली खबर है। गुजरात दंगे को लेकर ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *