Breaking News

बदल रही है कश्मीर की वादियां

डॉ. दिलीप अग्निहोत्री

कश्मीर के मेवा और वुलेन वस्त्र व्यापारी प्रतिवर्ष लखनऊ आते है। लेकिन विभाजनकारी अनुच्छेद 370 की समाप्ति के ये व्यापारी पहली बार आये है। ये लो वहां हुए सुधार का अनुभव कर रहे है। इनका कहना है कि कश्मीर की वादियां बदल रही है। व्यापक सुधार हो रहा है। विकास यहां के एजेंडे में सबसे ऊपर आ गया है।

जम्मू कश्मीर ही नहीं लद्दाख में हालात सुधर रहे है। अब पूर्ण एकीकरण की भावना है। जो लोग कहते थे कि अनुच्छेद 370 के समाप्ति से कश्मीर में तिरंगा उठाने वाला कोई नहीं मिलेगा। वह सभी लोग निराश हताश है। ऐसे ही दो तीन परिवार उस व्यवस्था का लाभ उठा रहे थे।

मिलने पहुंचे स्वतन्त्र देव

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष का काफिला समता मुल्क चौक से निकल रहा था। उन्होंने अपने वाहन को रुकवाया। वहां ऊंचाई पर बने फुटपाथ पर पहुंचे। यहां उन्होंने कश्मीर के नौजवान व्यापारियों से कुशलता पंछी। वहां के बारे में जानकारी प्राप्त की। स्वतन्त्र देव सिंह ने बताया कि आज लखनऊ में कश्मीर से व्यापार करने आए युवा साथियों से वार्ता कर उनका कुशल क्षेम जाना। युवा साथियों ने योगी सरकार के प्रति विश्वास जताते हुए कहा कि वह आज उत्तर प्रदेश में स्वयं को सुरक्षित महसूस कर रहे है।

मोदी व गुलाम नवी की प्रशंसा

ये युवा व्यापारी पिछले दिनों राज्यसभा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व गुलाम नवी के भाषण से अवगत है। वह इन दोनों के भाषणों से प्रभावित है। क्योंकि इसमें विविधता में एकता की गूंज है। मोदी व गुलाम नवी अलग अलग पार्टियों से है। राजनीतिक विरोध जम कर होता रहा। लेकिन जब राष्ट्रीय एकता व राष्ट्रीय सहमति की बात आती है,तब दोनों एक ही धरातल पर दिखाई देते है। यह राष्ट्रीय विचार ही उन्हें भावुक करता है।

Loading...

मोदी सबका साथ सबका विकास की नीति पर अमल करते है,गुलाम नवी आजाद कहते है कि दुनिया में सबसे अच्छे भारत के ही मुसलमान है। सर्वाधिक सर्वाधिक व सम्मान भारत में ही मिल रहा। है। अन्य मुस्लिम देशों में तो आपस में ही इनकी जंग होती है।

Loading...

About Samar Saleel

Check Also

यूपी के वाराणसी में भैंस ने दिया दो मुंह वाले बच्चे को जन्म, देखने के लिए उमड़ी भीड़

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें उत्तर प्रदेश के वाराणसी के सिकरौल इलाके में ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *