Breaking News

मंत्री अश्विनी वैष्णव ने नई दिल्ली-देवबंद रेल खंड का किया रियर विंडो निरीक्षण

नई दिल्ली। केंद्रीय रेल, संचार, इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री अश्विनी वैष्णव ने आज नई दिल्ली – देवबंद रेल खंड का रियर विंडो निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान उनके साथ आशुतोष गंगल, महाप्रबंधक, उत्तर रेलवे, डिंपी गर्ग, डीआरएम, दिल्ली और उत्तर रेलवे के प्रमुख विभागाध्यक्ष उपस्थित थे।

विंडो ट्रेलिंग के दौरान, मंत्री ने इस खंड पर पड़ने स्टेशनों एवं प्रगतिशील विकास कार्यों और स्टेशनों पर उपलब्ध यात्री सुविधाओं के बारे में जानकारी लेते हुए उनकी समीक्षा की। देवबंद रेलवे स्टेशन पर पहुंचने पर, मंत्री को देवबंद स्टेशन पर विभिन्न विकास परियोजनाओं की प्रगति के बारे में जानकारी दी गई और स्टेशन में मुहैया कराई जा रही जिन प्रमुख सुविधाओं से भी अवगत कराया गया, उनमें पूर्ण लंबाई के तीन नए उच्च स्तरीय प्लेटफार्म, नये स्टेशन भवन एवं सर्कुलेटिंग एरिया का विकास, निर्माणाधीन देवबंद-रुड़की रेलवे लाइन के लिए यात्री प्लेटफॉर्म सहित यात्रियों को समायोजित करने के लिए दो नई लूप लाइनें, माल ढुलाई में वृद्धि करने के लिए देवबंद में एक नई गुड्स साइडिंग का निर्माण आदि प्रमुख हैं।

इस अवसर पर रेल मंत्री ने निर्देश दिए कि देवबंद रेलवे स्टेशन के अग्रभाग को स्थानीय संस्कृति और बाला सुंदरी मंदिर जैसे प्रसिद्ध क्षेत्रीय पर्यटन स्थलों को प्रदर्शित करने के लिए विकसित किया जाए। उन्होंने खुर्दा रेलवे स्टेशन की भांति देवबंद स्टेशन के दूसरे प्रवेश द्वार, प्लेटफार्मों की पूर्ण लंबाई की कवरिंग और सर्कुलेटिंग एरिया के आसान पहुंच को विकसित करने के भी निर्देश दिए।

दोनों निरीक्षण कार्यों के उपरांत, रेल मंत्री ने इन सभी कार्यों के निर्धारित समय सीमा के भीतर पूरा होने की उम्मीद जताई। मंत्री ने इस बात पर विशेष बल देते हुए कहा कि इन खंडों में रेल परिचालन की सुरक्षा पर अत्यधिक ध्यान देने की आवश्यकता है, क्योंकि इस रेलमार्ग पर रेल यातायात बहुत अधिक रहता है। उन्होंने कहा कि रेल यात्रियों को बेहतर यात्री सुविधाएं और सेवाएं प्रदान की जानी चाहिए और स्वच्छता के उच्चतम मानकों को कायम रखा जाना चाहिए।

रिपोर्ट-दया शंकर चौधरी

About Samar Saleel

Check Also

3 डी नेविगेशन तकनीक : स्पाइनल सर्जरी को बनाती है आसान

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें मुंबई। लैमिनेक्टॉमी और लंबर फ्यूजन जैसी पुराने चलन ...