Breaking News

लखनऊ एयरपोर्ट का रनवे रात 9:30 से सुबह 6:00 बजे तक रहेगा बंद, जानने के लिए पढ़े पूरी खबर

खनऊ एयरपोर्ट का रनवे छह माह तक रात में 9:30 से सुबह 6:00 बजे तक बंद रहेगा। इस दौरान रनवे पर उखड़ी परत की मरम्मत होगी। रनवे के संबंध में प्रकाशित खबर के बाद एयरपोर्ट प्रशासन ने यह फैसला लिया है।

एयरपोर्ट प्रशासन ने रनवे को कुछ घंटों तक रोजाना बंद रखकर मरम्मत करने का निर्णय लिया है। यह काम 23 फरवरी से शुरू होकर 11 जुलाई तक चलेगा। रनवे मरम्मत से 12 से 17 उड़ाने प्रभावित होंगी।

एयरपोर्ट प्रशासन की ओर से रनवे मरम्मत के लिए जारी नोटम के अनुसार रनवे टर्निंग पैड की उखड़ी परत की मरम्मत होगी। रनवे मरम्मत से जुड़े अन्य कार्य होंगे।

मरम्मत कार्य के दौरान रात से सुबह तक अमौसी स्थित एयरपोर्ट पर इमरजेंसी लैंडिंग नहीं हो सकेगी। आसपास के किसी एयरपोर्ट से खराब मौसम, कोहरा या अन्य किसी कारण डायवर्ट हो कर विमान नहीं आ सकेंगे।

रनवे के छोर उखड़ने के बाद से डीजीसीए के अधिकारी रोजाना चार बार निरीक्षण कर रहे हैं। डीजीसीए के सहायक निदेशक सत्येन्द्र वर्मा के नेतृत्व में टीम सुरक्षा को लेकर विशेष सतर्कता बरत रही है। सहायक निदेशक खुद अपनी टीम के साथ रोज चेकिंग कर रहे हैं। साथ ही एयरपोर्ट प्रशासन को जरूरी कदम उठाने का सुझाव दिया है।

रात में एयरपोर्ट बंद रहने के चलते रोजाना 12 से 17 फ्लाइटें प्रभावित होंगी। इनमें अन्तरराष्ट्रीय हवाई सेवा भी शामिल हैं। रात साढ़े नौ बजे के बाद एयर एशिया की दिल्ली लखनऊ के बीच दो, इंडिगो की इसी रूट पर दो फ्लाइट है। इंडिगो की बेंगलुरु और कोलकाता की फ्लाइट भी रात साढ़े नौ बजे के बाद हैं। बैंकाक लखनऊ थाई एयर एशिया की फ्लाइट भी शामिल है। रात 12 बजे के बाद इंडिगो की हैदराबाद लखनऊ आदि उड़ानें हैं। मस्कट लखनऊ के बीच सलाम एयर और ओमान एयर की एक-एक फ्लाइट शामिल है।

यह जानकारी डीजीसीए के साथ सार्वजनिक रूप से सभी विमानन कंपनियों को दी जाती है। डीजीसीए ने लखनऊ एयरपोर्ट को दो बार चेतावनी दी थी कि रनवे के एक छोर यानी टर्निंग पैड पर परत उखड़ गई है। यह वह स्थान है जहां से विमान घूमकर रनवे पर उड़ान भरने के लिए इंजन को ताकत देता है।

ऐसे में रनवे के उस हिस्से यानी टर्निंग पैड पर जबरदस्त दबाव पड़ता है। यहां परत उखड़ने से विमानों के लिए खतरा हो गया। विमान को ऊपर उठाने के लिए इंजन जब तेजी से हवा खींचता है तो भारी वस्तुएं भी उस ओर तेजी से खिंच सकती हैं।

ऐसे में हल्की गिट्टियों के उछल कर इंजन में जाने का खतरा है। यदि एक भी गिट्टी इंजन में चली गई तो रनवे से उठते विमान के इंजन में आग लग सकती है। इसी कारण डीजीसीए ने सख्त रुख अपनाया। डीजीसीए के अनुसार पहला नोटिस पिछले वर्ष अगस्त माह में दिया गया था।

 

About News Room lko

Check Also

राज्य पेयजल एवं स्वच्छता मिशन की झांकी ने जीता दूसरा पुरस्कार

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें • गणतंत्र दिवस परेड में पहली बार हुआ ...