Breaking News

महिला उद्यमियों के लिए “स्टार्ट-अप इंडिया स्टेट वर्कशॉप” का आयोजन

लखनऊ। स्टार्ट-अप इंडिया ने स्टार्टअप इन यूपी और इनोवेशन हब टीम के सहयोग से एकेटीयू के कुलपति प्रो प्रदीप कुमार मिश्र के नेतृत्व में विश्वविद्यालय के संस्थान यूपीआईडी ​​नोएडा में महिला उद्यमियों के लिए #स्टार्ट-अप इंडिया स्टेट वर्कशॉप” का आयोजन किया। भारत में महिला उद्यमियों की संख्या बढ़ने के साथ, विशेष रूप से महिला उद्यमियों पर ध्यान केंद्रित करने वाले कार्यक्रमों को लॉन्च करना महत्वपूर्ण था, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि उद्यमी बनने की इच्छुक महिलाओं के साथ-साथ मौजूदा महिला उद्यमियों को अपने उद्यमों को विकसित करने के लिए क्यूरेटेड समर्थन प्रदान किया जा सके। इसी उद्देश्य से स्टार्ट-अप इंडिया ने उत्तर प्रदेश राज्य सहित पूरे देश में उद्यमिता को बढ़ावा देने के लिए यह विशिष्ट कार्यक्रम शुरू किया है।

उत्तर प्रदेश में, स्टार्टअप इंडिया नोएडा, लखनऊ और वाराणसी सहित तीन प्रमुख स्थानों पर इन कार्यशालाओं का आयोजन कर रही है। कार्यक्रम की शुरुआत दीप प्रज्वलन और प्रोफेसर एचके पालीवाल, निदेशक यूपीआईडी ​​नोएडा के स्वागत भाषण के साथ हुई। इसके बाद डॉ. अनुज कुमार शर्मा और महीप सिंह, हेड इनोवेशन हब द्वारा इनोवेशन हब एकेटीयू के बारे में संक्षिप्त जानकारी दी गई। कार्यक्रम में लगभग 50 महिला स्टार्टअप और आकांक्षी स्टार्टअप ने भाग लिया।

स्टार्टअप इंडिया से प्रतिभाग करने आई शांभवी शर्मा और ऐश्वर्या चौहान ने उद्यमियों के लिए स्टार्टअप इंडिया की विभिन्न योजनाओं के बारे में विस्तार से बताया और महिला उद्यमियों के सवालों के जवाब दिए। डॉ. रीनू शाह, संस्थापक शक्ति- द एम्पैथी प्रोजेक्ट ने “एक महिला संस्थापक की उद्यमशीलता यात्रा” के बारे मे बात की, जहां उन्होंने बताया कि सामुदायिक रोल मॉडल कैसे बनें। फिर अभिषेक गुलिया, वाइस प्रेसिडेंट स्टार्टअप पोर्टफोलियो मैनेजमेंट एजिलिटी वेंचर ने समझाया कि निवेशकों के सामने विचारों को कैसे रखा जाए और निवेश से पहले निवेशक किन बातों का ध्यान रखते हैं।

मॉक पिचिंग सत्र में, कुछ महिला उद्यमियों ने जूरी के सामने अपने विचार रखे और सुधार के लिए विशेषज्ञ टीम से सुझाव प्रदान किए। डॉ. संजय, महाप्रबंधक, जीएल बजाज इनक्यूबेटर, डॉ. राम नारायण घटक, सीओओ इंडियाग्राम लैब्स फाउंडेशन डॉ. दिव्या चौहान, सीईओ, जेएसएस इंक्यूबेशन सेंटर और सचिन शर्मा, मैनेजर इनक्यूबेशन यूपीआईडी ​​ने जूरी के रूप में योगदान दिया। डॉ. कुमार संभव, डॉ. शंख सुवरो घोष और अन्य संकायों के साथ-साथ डॉ. डीपी सिंह उप कुलसचिव कार्यक्रम मे मौजूद थे। कार्यक्रम का संचालन उत्प्रेक्षा एवं लीना ने किया। कार्यक्रम के अंत में धन्यवाद ज्ञापन महीप सिंह ने किया।

थ्रीडी बायोप्रिंटिंग तकनीक स्वास्थ्य क्षेत्र में ला सकता है क्रांतिकारी बदलाव

About Samar Saleel

Check Also

विज्ञान, कलाकार की भांति संवेदनशील नहीं हो सकता- पद्मश्री राजेश्वर आचार्य

• लखनऊ के भूपेंद्र अस्थाना और संजय राज सहित अन्य 22 कलाकारों को शिविर में ...