Breaking News

समाज कल्याण की कामना

डॉ दिलीप अग्निहोत्री
डॉ. दिलीप अग्निहोत्री

भारत ने सदैव विश्व कल्याण व सर्वे भवन्तु सुखिनः की कामना की है। इसमें सम्पूर्ण मानवता के प्रति संवेदनशीलता का विचार है। प्राणी मात्र के प्रति दया भाव है। इस विचार की प्रेरणा से अयोध्या जी में यज्ञ का आयोजन किया गया। इसकी पूर्णाहुति में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सहभागी हुए। वह समाज सेवा व सन्यास दोनों पर विधि विधान के अनुरूप अमल करते है। मुख्यमंत्री के रूप में उन्हें प्रतिदिन ही किसी न किसी विषय पर विचार व्यक्त करने होते है। इनके बीच ऐसे भी अवसर आते है जब वह सन्यासी के रूप में लोगों को संबोधित करते है।

वह गोरक्ष पीठ के श्री महंत व पीठाधीश्वर है। धर्म के प्रति उनकी आस्था सहज स्वभाविक है। इसके साथ ही वह राष्ट्रधर्म को सर्वोच्च मानते है। अनेक अवसरों पर वह इसका सन्देश देते है। अयोध्या में चल रहे यज्ञ में वह श्री महंत के रूप में दिखाई दिए। यज्ञ में आहुति अर्पित की। संतों के साथ प्रसाद ग्रहण किया। यहां उनका संबोधन प्रवचन रूप में था।

उन्होंने कहा कि अयोध्या में भगवान विष्णु के नाम पर यज्ञ का आयोजन तथा इसको भगवान श्रीराम को समर्पित करना अपने आप में गौरव का विषय है। यह यज्ञ पूर्ण रूप से वेद विज्ञान पर आधारित है। यज्ञ का आयोजन महर्षि वेद विज्ञान विद्यापीठ एवं महर्षि रामायण सेवा न्यास द्वारा किया गया था। योगी आदित्यनाथ श्री विष्णु सर्व अद्भुत शांति महायज्ञ के समापन कार्यक्रम में सम्मिलित हुए थे। महर्षि महेश योगी ने उच्च हिमालय में ज्योतिष पीठ के तत्कालीन जगतगुरु शंकराचार्य पूज्य स्वामी ब्रह्मानन्द जी सरस्वती से योग दीक्षा ली थी।

इसके उपरान्त,पूरे हिमालय सहित उत्तर दक्षिण के राज्यों का भ्रमण किया। भ्रमण करने के पश्चात, वैदिक कालीन महत्ता को विश्व में विशेषकर यूरोपियन,अफ्रीकन, अमेरिकन देशों में जाकर प्रचार प्रसार किया तथा विश्व में भारतीय संस्कृति एवं वेद की महत्ता को उजागर किया। योगी आदित्यनाथ ने बताया कि महर्षि महेश योगी से संवाद करने का उन्हें अवसर प्राप्त हुआ था। प्रभु श्रीराम ने अयोध्या में अवतार लिया था। यह सूर्यवंशी राजाओं की राजधानी रही है। भगवान सूर्य पोषक एवं भरण पोषण के देवता हैं। भगवान श्रीराम, भगवान विष्णु के अवतार थे। अयोध्या श्रीराम की जन्मभूमि एवं सूर्यवंशी राजाओं की राजधानी रही है।

भगवान सूर्य पोषक एवं भरण पोषण के देवता हैं। भगवान श्रीराम, भगवान विष्णु के ही अवतार थे। अयोध्या धर्म के पथ की अनुगामी है, महर्षि वाल्मीकि जी ने अयोध्या के सम्बन्ध में कहा था कि रामोविग्रह वान धर्मःअर्थात श्रीराम धर्म के साक्षात स्वरूप हैं, राम ही धर्म है। धर्म के जो साक्ष्य किसी जगह मिलते हैं, तो वह मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम में ही मिलते हैं। इसलिए भगवान श्रीराम और धर्म एक-दूसरे के पूरक है। यही श्रीराम और सनातन धर्म की विशेषता है। प्रभु श्रीराम जी का जीवन चरित्र सामाज के प्रति कर्तव्य बोध व अर्थ,धर्म,काम, मोक्ष की प्रेरणा देने वाला है। सांसद सुधांशु त्रिवेदी ने कहा कि भारत धर्मप्राण देश है।

धर्मप्राण देश के सबसे बड़े प्रान्त में यदि सेवा करने के लिए सर्वोच्च पद पर धर्मप्राण शासक हो,तो निश्चित रूप से धर्मपद पर ले जाने का अच्छा योग बनता है। कुछ दिन पहले भी योगी आदित्यनाथ अयोध्या यात्रा पर आए थे। यहां वह श्रम विभाग के तत्वावधान में उत्तर प्रदेश भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड द्वारा आयोजित वृहद सामूहिक विवाह समारोह में करीब चार हजार कन्याओं के विवाह कार्यक्रम में सम्मिलित हुए थे। इन कन्याओं का विवाह कन्या सहायता योजना के तहत सम्पन्न हुआ था।

इस अवसर पर योगी आदित्यनाथ ने नवदंपत्तियों को शुभकामना दी थी। भगवान श्रीराम की जन्मस्थली में आयोजित वृहद सामूहिक विवागह समारोह में परिणय सूत्र में बंधने वाले सभी जोड़ों को सौभाग्यशाली बताया था। कन्याओं के विवाह में प्रदेश सरकार स्वयं उपस्थित होकर कन्यादान कर रही है। सामाजिक व जनकल्याणकारी योजनाओं का लाभ हर व्यक्ति को मिल रहा है। इन योजनाओं को समन्वित ढंग से लागू किया जा रहा है। श्रमिकों के हित के लिए उनकी कन्याओं के विवाह का यह सामूहिक कार्यक्रम गांव की बेटी, सबकी बेटी के भाव को चरितार्थ करता है। यह सामूहिकता की ताकत का एहसास भी है।

सरकार श्रमिकों और जनता के हर सुख-दुख की सहभागी हैै। श्रम विभाग द्वारा किए जा रहे सामूहिक विवाह के आयोजनों से दहेज, बाल विवाह तथा अन्य सामाजिक कुरीतियों को दूर करने में मदद मिली है। श्रम विभाग द्वारा सामूहिक विवाह कार्यक्रमों को तेजी से संचालित किया जा रहा है। श्रमिकों सहित समाज के अन्य कमजोर वर्गों की कन्याओं के सामूहिक विवाह के कार्यक्रमों में राज्य सरकार ने सक्रिय भागीदारी कर बेटियों को सम्मान देने का कार्य किया है। सरकार गांव, गरीब,नौजवान,किसान, महिलाओं,दलित, शोषित,पीड़ित,वंचित सहित समाज के प्रत्येक तबके के हित और विकास के लिए पूरी निष्ठा और ईमानदारी से कार्य कर रही है।

प्रधानमंत्री आवास योजना,मुख्यमंत्री आवास योजना तथा श्रम विभाग की आवास योजना के माध्यम से आवास उपलब्ध कराने का कार्य किया जा रहा है। पैंतालीस लाख परिवारों को आवास की उपलब्धता,दो करोड़ इकसठ लाख शौचालयों की उपलब्धता,उनसठ हजार ग्राम पंचायतों में सामुदायिक शौचालयों एवं पंचायत भवनों का निर्माण सहित विद्युतविहीन गांवों में बिजली की उपलब्धता जैसे कार्य सुनिश्चित किए गए हैं। मिशन शक्ति के तहत न सिर्फ थानों और तहसीलों में बल्कि गांव-गांव में बालिकाओं और महिलाओं के उत्थान और विकास के कार्य किए जा रहे हैं। बीट अधिकारी के रूप में महिला पुलिसकर्मी द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में महिलाओं को सुरक्षा और सम्मान का वातावरण दिया जा रहा है। यह कार्य प्रदेश सरकार की लोक कल्याणकारी नीतियों और कार्यक्रमों का हिस्सा हैं।

About Samar Saleel

Check Also

मध्य एशियाई देशों के साथ अपने संबंधों को नई ऊंचाइयों पर ले जाने की कोशिश में है भारत

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें पड़ोसी देशों के साथ-साथ भारत की नजर मध्य ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *