चीन ने बनाया दमदामर Drone

चीन अपनी सेना के आधुनिकीकरण में काफी रिसर्च और पैसे खर्च कर रहा है। इसी कड़ी में चीन ने दुनिया का पहला हथियारबंद जमीन और पानी में चल सकने वाला Drone ड्रोन बोट तैयार किया है। इसका नाम मरीन लिजार्ड रखा गया है और इसे चीन की शिप बिल्डिंग इंडस्ट्री कॉर्पोरेशन ने तैयार किया है।

Drone को जमीन में हमले

सैन्य विशेषज्ञों का कहना है कि इस ड्रोन को जमीन में हमले के अभियान में इस्तेमाल किया जा सकता है और यह हवाई ड्रोन या अन्य ड्रोन शिप के साथ निपटने में सक्षम है। बताया जा रहा है कि मरीन लिजार्ड ने 8 अप्रैल को मध्य चीन के हुबेई प्रांत की राजधानी वुहान में सफलतापूर्वक डिलीवरी चेक पास किए और यह फैक्ट्री से बाहर निकल आया है।
शिप के रूप में 12 मीटर लंबा यह मरीन लिजार्ड डीजल से चलने वाला हाइड्रोजेट 50 नॉट यानी 92.6 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चल सकता है और इस दौरान यह अपने को छिपाए रख सकता है। जमीन पर पहुंचने के बाद यह चार ट्रैक यूनिट्स को लगातार रिलीज कर सकता है, जो इसके नीचे छिपी रहती हैं। यह जमीन पर 20 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चल सकता है।

मरीन लिजार्ड के पेलोड में

कंपनी के एक मैनेजर के हवाले से हुबेई डेली ने यह जानकारी देते हुए लिखा कि मैनेजर के अनुसार, यदि बड़ी ट्रैक यूनिट्स को लगा दिया जाए, तो जमीन पर इसकी अधिकतम गति को बढ़ाया जा सकता है। मरीन लिजार्ड के पेलोड में एक इलेक्ट्रो-ऑप्टिकल सिस्टम और एक रडार सिस्टम लगाया गया है। इसके हथियार में दो मशीन गन लगी हुई हैं। इसके साथ ही एंटी-शिप और एंटी-एयरक्राफ्ट मिसाइलों को भी इसमें शामिल किया गया है। यह खुद ही तैर सकता है, बाधाओं को पार कर सकता है और अपने रास्ते की योजना बना सकता है।

एक सैन्य विशेषज्ञ ने रविवार को ग्लोबल टाइम्स को बताया कि यह एंफीबीयस ड्रोन बोट द्वीप पर हमले के संचालन के लिए उपयुक्त है। ऐसे ड्रोन जहाजों का झुंड तोपखाने और हवाई हमलों की पहली लहर के बाद हमले का नेतृत्व कर सकते हैं। समुद्र से जमीन पर पहुंचना एक खतरनाक काम है और मरीन लिजार्ड इस मामले में आगे है। यह दुश्मन के ठिकानों का पता लगाने के लिए अपनी मानव रहित प्रकृति का फायदा उठा सकती है और सेना के पहुंचने से पहले फायर कर सकती है।

 

About Samar Saleel

Check Also

भारत-पाक के बीच तनाव को कम करने के लिए इस दोतरफा रणनीति पर कार्य कर रहा अमेरिका

जम्मू और कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद हिंदुस्तान व पाक के बीच तनाव को कम करने के लिए अमेरिका ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *