चारबाग से जीआरपी ने बरामद की एक करोड़ की मार्फीन

लखनऊ। चारबाग रेलवे स्टेशन पर जीआरपी ने मादक पदार्थ की तस्करी करने वाले एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है। जीआरपी ने पकड़े गए व्यक्ति के पास से 1100 ग्राम मार्फीन बरामद की है। इस मादक पदार्थ की अंतर्राष्ट्रीय बाजार में एक करोड़ से अधिक कीमत बताई जा रही है। जीआरपी के अनुसार अभियुक्त पर पहले से करीब आधा दर्जन केस एनडीपीएस एक्ट में दर्ज है। अभियुक्त को हिरासत में लेकर उसके गैंग में शामिल अन्य आरोपियों के बारे में पूछताछ कर आगे की कार्रवाई की जा रही है।

चारबाग में जीआरपी की गिरफ्त में आया

चारबाग में जीआरपी की गिरफ्त में आया मोहम्मद यूसुफ अंसारी पहले भी 8 बार जेल जा चुका है। जीआरपी ने यूसुफ के पास से 1 किलो 100 ग्राम मार्फीन बरामद की है। जिसकी अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कीमत करीब एक करोड़ रुपये आंकी जा रही है।

एसपी रेलवे ने बताया

एसपी रेलवे लखनऊ सौमित्र यादव ने बताया कि जीआरपी को लगातार इस बात की जानकारी मिल रही थी कि स्टेशन और उसके आसपास एक ऐसा गिरोह सक्रिय है जो महिलाओं की मदद से मार्फीन की तस्करी का काम कर रहा है। इस काम में छोटे-छोटे बच्चों को भी सम्मिलित कराकर इस तरह का व्यापार किया जा रहा है। जिसके बाद मुखबिर मुखबिर की सूचना पर कार्रवाई करते हुए पुलिस ने एनईआर स्टेडियम के पास से एक व्यक्ति को स्कूल बैग के साथ गिरफ्तार कर लिया।

जीआरपी को टीम को एसपी ने किया पुरस्कृत
एसपी ने बताया कि बरामदगी के तौर पर आरोपी के पास से गीली और सूखी अवस्था में भारी मात्रा में मार्फिन बरामद की गई। आपको बता दे की मोहम्मद यूसुफ इससे पहले भी कई बार जेल जा चुका है और इस काम में इसका बखूबी साथ उसकी पत्नी और बच्चे भी देते रहे हैं। जिसका पता इस बात से चलता है कि यूसुफ की पत्नी भी आलमबाग कोतवाली से दो बार जेल जा चुकी है पर जिस तरह से यह सफलता मिली है। वह जीआरपी के लिए बेहद ही काबिले तारीफ है। एसपी ने गिरफ्तार करने वाली जीआरपी की टीम को 10,000 के नगद पुरस्कार से पुरस्कृत किया है।

About Samar Saleel

Check Also

अनुच्छेद 370: कश्मीर में 12 दिन बाद आया यह बड़ा बदलाव कई इलाकों में 2जी इंटरनेट सेवा की हुई शुरुआत  

जम्मू-कश्मीर में लगाए गए प्रतिबंध को चरणबद्ध ढंग से हटाना प्रारम्भ कर दिया है. शनिवार से कई इलाकों में 2जी ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *