Breaking News

प्राकृतिक चीजें खाएं और स्वस्थ जीवन जिएं : ललित एम कपूर

लखनऊ। लखनऊ मैनेजमेंट एसोसिएशन ने आज ‘रिवर्सिंग क्रॉनिक डिजीज नेचुरली’ विषय पर व्याख्यान सत्र का आयोजन किया।  मुख्य वक्ता के रूप में ललित मोहन कपूर ने सभी को स्वस्थ और खुशहाल जीवन शैली अपनाने के लिए प्रेरित किया। आज की पीढ़ी खराब खान-पान और खराब जीवनशैली के कारण लगातार बीमार हो रही है, जबकि हमारे पूर्वज प्राकृतिक भोजन का सेवन करके स्वस्थ जीवन जीते थे, उसी तरह हम सभी को अधिक से अधिक प्राकृतिक भोजन का प्रयास करना चाहिए, खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए।

उन्होंने कहा, प्राकृतिक चीजें खाएं और स्वस्थ जीवन जिएं।ललित मोहन कपूर, निदेशक, प्लांट बेस्ड लर्निंग फाउंडेशन, अमेरिका ने उपवास और पौधों पर आधारित संपूर्ण खाद्य पदार्थों जैसे कि ग्रीन जूसिंग, शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालने के लिए तेल मुक्त खाना पकाने के लाभों के बारे में विस्तार से बताया। साथ ही योग के महत्व और उचित नींद के बारे में भी चर्चा की। उन्होंने बताया कि जीवन शैली पर आधारित गंभीर बीमारियों जैसे मधुमेह, रक्तचाप, गठिया, थायराइड, नींद की कमी को भी जीवनशैली में बदलाव और उचित आहार से ठीक किया जा सकता है।

आईआईटी कानपुर के 1971 बैच के केमिकल इंजीनियर से बिजनेसमैन बने न्यूट्रिशनिस्ट ललित एम कपूर से बात करते हैं। वर्ष 2012 तक ललित उच्च रक्तचाप, मधुमेह, हाइपोथायरायडिज्म, गठिया, पुराने ऑस्टियोआर्थराइटिस और स्लीप एपनिया जैसी जीवनशैली संबंधी बीमारियों ने उन्हें अपनी चपेट में ले लिया था। उन्होंने उनसे डटकर मुकाबला करने का फैसला किया और अपनी सभी दवाएं बंद कर दी थीं। उन्होंने पोषण के क्षेत्र में दिग्गजों के काम का अध्ययन करके और  इंटरनेट साइटों पर अपने शोध को आगे बढ़ाकर जवाबों की तलाश जारी रखी। अपने बैच के साथियों द्वारा अपने ज्ञान को साझा करने के अनुरोध ने उन्हें अपने बैच के साथियों के लिए एक व्हाट्सएप ग्रुप “एलएमके हेल्थ” शुरू करने के लिए प्रेरित किया।  जल्द ही उन्होंने उन पुरानी बीमारियों को दूर करने के तरीकों को व्हाट्सएप ग्रुप पर साझा करना शुरू किया, जो उन्हें दशकों से परेशान कर रही थीं। जल्द ही उनके पास 30,000 से अधिक व्हाट्सएप ग्रुप सदस्य हैं जिनमें कई आईआईटीयन शामिल हैं, लेकिन कई डॉक्टर और आहार विशेषज्ञ भी हैं जिन्होंने अपनी पुरानी बीमारियों को उलट दिया है।

ललित के अनुसार सभी पुराने रोग अनुचित आहार और जीवन शैली के कारण होते हैं और जब हम इसे बदलते हैं, तो रोग दूर हो जाते हैं।  मानव शरीर एक स्व-चिकित्सा जीव है।  लक्षणों को दबाने के लिए दवाएं देकर, हम इस स्व-उपचार प्रक्रिया में हस्तक्षेप करते हैं और अन्य समस्याएं पैदा करते है। स्वस्थ लोगों के लिए वह हर दिन दो चम्मच चीनी और तेल/घी के अपवाद की अनुमति देते हैं। उनके कुछ अन्य सुझाव हैं,जैसे घी/तेल की जगह वेजिटेबल स्टॉक को घर में बने नट बटर (मूंगफली, काजू या बादाम आदि) के साथ मिलाएं। डेयरी पदार्थो को ओटमील या अखरोट आधारित दूध से बदलें।

चीनी को खजूर चीनी या खजूर के सिरप से बदलें।  या व्यंजनों को मीठा करने के लिए मिश्रित किशमिश या अन्य ताजे या सूखे मेवों का उपयोग करें। कुछ लोगों को ये दिशानिर्देश बहुत प्रतिबंधात्मक लगते हैं लेकिन कई लोग सफलतापूर्वक उनका पालन कर रहे हैं और एक ऐसे जीवन का अनुभव कर रहे हैं जिसकी उन्होंने कभी कल्पना भी नहीं की थी। अपने संदेश को फैलाने के लिए ललित ने भारत और अमेरिका में एक एनजीओ “प्लांट बेस्ड वेलनेस फाउंडेशन” बनाया है।  उनका दृष्टिकोण भारत के सभी क्षेत्रों में सभी प्रमुख भाषाओं में शिक्षकों को प्रशिक्षित करना है। इस अवसर पर पूर्व मुख्य सचिव आलोक रंजन, रीता मित्तल, प्रवीन दिवेदी और विनोद तैलंग सहित शहर के अन्य गणमान्य व्यक्ति मौजूद थे।

About Samar Saleel

Check Also

श्री रामलीला समिति ऐशबाग में हुआ लैमिनेटेड रावण पुतला दहन

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें लखनऊ। सिद्धभूमि श्री रामलीला ऐशबाग जहाँ गोस्वामी तुलसीदास ...