Breaking News

टीएमयू वोकाबैडिक्ट्स में फैकल्टी ऑफ एजुकेशन का जलवा

मुरादाबाद। तीर्थंकर महावीर यूनिवर्सिटी (टीएमयू) के सेंटर फॉर टीचिंग, लर्निंग एंड डवलपमेंट-सीटीएलडी की ओर से यूनिवर्सिटी के ऑडिटोरियम में वोकाबैडिक्ट्स-4.0 में आदिनाथ कॉलेज ऑफ एजुकेशन के अनन्य अग्रवाल, अंशिका यादव, लबीना फारूकी की टीम-सनशाइन विजेता रही।

गूगल दफ्तर में कर्मचारियों का विरोध प्रदर्शन, इस्राइली सेना और सरकार के साथ सभी संबंध तोड़ने का दबाव

प्रेम प्रकाश मेमोरियल कॉलेज के आकांक्षा कुमार, मिधत घदीर, सृष्टि जैसवाल की टीम फेलकॉन्स द्वितीय, जबकि कुंथनाथ कॉलेज ऑफ एजुकेशन के कोनिका, वसुंधरा यादव, नैना पांडे की टीम वेंगार्डस तीसरे स्थान पर रही।

टीएमयू वोकाबैडिक्ट्स में फैकल्टी ऑफ एजुकेशन का जलवा

इससे पहले वीसी प्रो वीके जैन ने बतौर मुख्य अतिथि मां सरस्वती के समक्ष दीप प्रज्ज्वलित करके कार्यक्रम का शुभारम्भ किया। इस अवसर पर डीन स्टुडेंट्स वेलफेयर प्रो एमपी सिंह, सीटीएलडी के निदेशक प्रो आरएन कृष्णिया, पैरामेडिकल के प्रिंसिपल प्रो नवनीत कुमार, फार्मेसी के प्रिंसिपल डॉक अनुराग वर्मा, डॉ विनोद जैन, डॉ रत्नेश जैन आदि की गरिमामयी मौजूदगी रही।

सर्वोच्च बलिदान देने वाले अफसर की पत्नी को वित्तीय लाभ देने के लिए तैयार सरकार, विशेष मामला माना

वीसी प्रो वीके जैन ने अंग्रेजी की महत्ता पर प्रकाश डालते हुए कहा, कार्यक्रम में यूनिवर्सिटी के विभिन्न कॉलेजों के कुल 924 विद्यार्थियों ने प्रतिभाग किया, यह बड़ी बात है। उन्होंने उम्मीद जताई, अगले वोकाबैडिक्ट्स में 3000 से भी ज्यादा छात्र इसमें अपनी प्रतिभागिता दर्ज करेंगे। प्रभावी कम्युनिकेशन स्किल्स के लिए स्ट्रांग वोकेबुलरी जरूरी है। ऐसी प्रतियोगिताओं के माध्यम से छात्र-छात्राओं को आगे बढ़ने का अवसर मिलता है। संचालन स्टुडेंट्स तूलिका और रिद्धिमा ने किया।

टीएमयू वोकाबैडिक्ट्स में फैकल्टी ऑफ एजुकेशन का जलवा

डीन स्टुडेंट्स वेलफेयर प्रो एमपी सिंह ने कहा, अपनी बातों को आज दुनिया के सामने तर्कसंगत रूप से रखने के लिए छात्रों के दिमाग में अनेक शब्द होने चाहिए। इससे वे कभी भी अंग्रेजी में बात करते या लिखते समय पीछे न रहें। सीटीएलडी के डायरेक्टर प्रो कृष्णिया ने सीटीएलडी ट्रेनर्स की टीम और वालंटियर्स को प्रोत्साहित करते हुए कहा, हमारा मकसद है कि हम अपने छात्रों को अंग्रेजी की दुनिया में एक अलग पहचान दिला सकें।

ज्यादा चीनी खाते हैं तो सावधान, डायबिटीज के अलावा इससे जोड़ों-लिवर की भी बढ़ सकती हैं समस्याएं

उल्लेखनीय है, छात्रों को अंग्रेजी के नए और क्लिष्ट शब्दों की पहचान कराने के लिए इस कार्यक्रम का नाम वोकाबैडिक्ट्स रखा गया है। छात्रों के लिए ट्रेनर्स की ओर से 1000 शब्दों की एक किताब तैयार की गई। इसमें विभिन्न प्रकार के शब्दों जैसे- अनेक शब्दों के एक शब्द, समानार्थी शब्द आदि का उल्लेख है। इसका उद्देश्य छात्रों का शाब्दिक ज्ञान बढ़ाना है।

टीएमयू वोकाबैडिक्ट्स में फैकल्टी ऑफ एजुकेशन का जलवा

वोकाबैडिक्ट्स 4.0 में मेडिकल कॉलेज को छोड़कर पूरी यूनिवर्सिटी की कुल 308 टीम्स ने प्रतिभागिता किया। प्रत्येक टीम में कुल 3 छात्र थे। स्क्रीनिंग राउंड के आधार पर 70 टीम्स क्वार्टर फाइनल के लिए चुनी गईं, 70 टीम्स के बीच क्रॉसवर्ड पजल के साथ सेमी फाइनल के लिए 12 टीम्स का चयन हुआ।

क्विज़ मास्टर अंकित शर्मा ने 12 टीम्स के बीच प्रतियोगिता कराई, जिसमें से 6 टीमों ने फाइनल के लिए क्वालीफाई किया। फाइनल में 5 राउंड्स के माध्यम से वोकाबैडिक्ट्स 4.0 के तीन विजेता चुने गए।

टीएमयू वोकाबैडिक्ट्स में फैकल्टी ऑफ एजुकेशन का जलवा

कार्यक्रम में कोर्डिनेटर डॉ जैस्मीन स्टीफन, डिप्टी डायरेक्टर डॉ दिलीप वार्ष्णेय, चार्वी खत्री, अलका दयाल, अतुल दयाल, सागर प्रताप सिंह, अन्वेषा सिसोदिया, प्रांशी जादौन, मनी सारस्वत, नवीन दुबे, शिवम कश्यप, अनंत भारदवाल, प्रदीप पंवार, दीपक कटियार, पल्लव पांडे, चंद्रभूषण सिन्हा आदि की मौजूदगी रही।

About Samar Saleel

Check Also

अपराधियों को टिकट नहीं दिया जाना चाहिए, मुझ पर जो मुकदमे लगाए गए वह संघर्ष के हैं

वाराणसी। कांग्रेस के अजय राय देश की सबसे हॉट लोकसभा सीट वाराणसी से प्रधानमंत्री मोदी ...