Breaking News

केजीएमयू में बिना टेंडर खरीदे 400 Computer

लखनऊ। केजीएमयू में बिना टेंडर के ही वेलफेयर सोसाइटी ने 400 कम्प्यूटर Computer खरीद लिए। जिस वेलफेयर सोसाइटी पर मरीजों के हित में काम करने की जिम्मेदारी है, उसी ने नियमों को ताक पर रखकर पूरा खेल किया। करीब एक करोड़ के कम्प्यूटर खरीदे गए। केजीएमयू की आइटी सेल की डिमांड पर वेलफेयर सोसाइटी ने चार चरणों में सौ-सौ कम्प्यूटर पूरे अस्पताल में लगवाए।
केजीएमयू में वेलफेयर सोसाइटी का एक और खेल सामने आया है। सितंबर 2014 में आइटी सेल ने सेंट्रल पेशेंट मैनेजमेंट सिस्टम (सीपीएमएस) लागू करने के लिए कम्प्यूटर की डिमांड की।

अस्पताल में करीब 400 Computer

पूरे अस्पताल में करीब 400 कम्प्यूटर Computer लगने थे। ऐसे में वेलफेयर सोसाइटी द्वारा इसका आर्डर बिना टेंडर के ही दे दिया गया। प्रति कम्प्यूटर 23900 रुपये की दर से कंपनी को भुगतान किया गया यानी कुल 95.60 लाख रुपये का भुगतान हुआ। तीन महीने के अंदर कंपनी ने 100-100 कम्प्यूटर की खेप चार चरण में केजीएमयू को दी।

इस तरह 400 कम्प्यूटर की खरीद नियमों को ताक पर रखकर की गई। इस बारे में आइटी सेल के तत्कालीन प्रभारी प्रो. आशीष वाखलू का कहना है कि मैंने सिर्फ और सिर्फ डिमांड दी थी, पूरी खरीद प्रक्रिया वेलफेयर सोसाइटी और वित्त विभाग के माध्यम से हुई है। उधर केजीएमयू के मीडिया इंचार्ज प्रो. संतोष कुमार का कहना है कि मामले की जांच की जाएगी। आखिर खरीद प्रक्रिया में नियमों का पालन क्यों नहीं हुआ इसकी पड़ताल होगी।
केजीएमयू में वर्ष 2014 में एमबीबीएस की 250 सीटें बढ़ाने का प्रस्ताव एमसीआइ को भेजा गया था। इस पर एमसीआइ ने आपत्ति लगाई कि यहां इलेक्ट्रानिक मेडिकल रिकॉर्ड रखने और ई हॉस्पिटल की सुविधा नहीं है। ऐसे में आइटी सेल की डिमांड में आननफानन यह घोटाला हुआ।

Loading...

 

Loading...

About Samar Saleel

Check Also

यूपी: लोकायुक्त पंहुची सीआईसी जावेद उस्मानी के भ्रष्टाचार की शिकायत

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव की कुर्सी छोड़कर राज्य सूचना आयोग के मुख्य सूचना ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *