Breaking News

नैनो सैटेलाइट के जरिए अंतरिक्ष में जाएगी भगवद् गीता और पीएम नरेंद्र मोदी की तस्वीर

विज्ञान के क्षेत्र में भारत लगातार तेजी से आगे बढ़ रहा है. भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO, इसरो) एक के बाद एक लगातार नए कीर्तिमान हासिल कर इतिहास के पन्नों में नई उपलब्धियां दर्ज करा रहा है. इसी सिलसिले में फरवरी के आखिर में देश का पहला निजी क्षेत्र का एक उपग्रह लॉन्च किया जाएगा.

भारत के महान वैज्ञानिक सतीश धवन के नाम का ये सैटेलाइट अंतरिक्ष में भगवद् गीता के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर और देश के 25 हजार लोगों के नाम लेकर जाएगा. बता दें कि भारत के लिए इस तरह का ये पहला एक्सपेरिमेंट होगा. अमेरिका की अंतरिक्ष एजेंसी नासा इस तरह के एक्सपेरिमेंट काफी पहले ही कर चुकी है.

खबरों के मुताबिक यह एक नैनो सैटेलाइट होगा, जिसे पोलर सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल द्वारा प्रक्षेपित किया जाएगा. बच्चों और युवाओं के बीच अंतरिक्ष विज्ञान को प्रमोट करने वाली स्पेस किड्स इंडिया इसे विकसित कर रही है. जानकारी के मुताबिक सतीश धवन सैटेलाइट अपने साथ-साथ 3 और पेलोड्स लेकर आएगा.

Loading...

Space Kidz India के फाउंडर और सीईओ डॉ. केसन इस प्रोजेक्ट को लेकर काफी उत्साहित हैं. उन्होंने कहा कि सतीश धवन सैटेलाइट अंतरिक्ष में जाने वाला उनका पहला सैटेलाइट होगा. उन्होंने बताया कि मिशन के तहत Space Kidz India ने अंतरिक्ष में भेजने के लिए लोगों से उनके नाम मंगवाए थे और सिर्फ एक हफ्ते के अंदर ही उन्हें 25 हजार नाम मिल गए.

डॉ. केसन ने बताया कि लोगों द्वारा भेजे गए 25 हजार नामों में एक हजार नाम विदेशी लोगों के भी शामिल हैं. उन्होंने बताया कि सतीश धवन सैटेलाइट के जरिए अंतरिक्ष में जिन लोगों के नाम भेजे जाएंगे, उन्हें एक खास बोर्डिंग पास भी दिया जाएगा.

डॉ. केसन ने अंतरिक्ष में भगवद् गीता का नाम भेजे जाने से जुड़ा एक सवाल पूछे जाने पर कहा कि इससे पहले अंतरिक्ष में बाइबल का नाम जा चुका है. लिहाजा, उन्होंने अपने मिशन के तहत भगवद् गीता का नाम भेजने का फैसला किया. इसके अलावा उन्होंने कहा कि Space Kidz India के मिशन में पीएम नरेंद्र मोदी का नाम भी शामिल किया गया है. पीएम मोदी के साथ इसरो के चेयरमैन डॉ. सिवन का नाम भी अंतरिक्ष में भेजा जाएगा.

Loading...

About Ankit Singh

Check Also

WHO की रिपोर्ट में दावा, 2050 तक हर 4 में से 1 को सुनाई देना हो जाएगा बंद

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें साल 2050 तक दुनिया में चार में से ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *