Breaking News

शेयर बाजार में आज देखने को मिली इतिहास की दूसरी बड़ी गिरावट, सेंसेक्स व निफ्टी का हुआ ये हाल

कोरोनावायरस के चलते दुनिया भर के बाजारों में मचे कोहराम से भारतीय शेयर बाजार भी अछूते नहीं रहे और सेंसेक्स में इतिहास की दूसरी बड़ी गिरावट दर्ज की गई। शुक्रवार को सेंसेक्स में 1,448 अंक और निफ्टी में 432 अंकों की कमजोरी देखने को मिली। यह लगातार छठा सत्र रहा, जब बाजार लाल निशान में बंद हुआ। इससे कुछ ही घंटों में निवेशकों के लगभग 5.46 लाख करोड़ रुपये डूब गए। बिकवाली इतनी तगड़ी थी कि धातु, आईटी, वाहन सहित कोई भी सूचकांक गिरावट से अछूता नहीं रहा।

कारोबारी सत्र के दौरान बाजार में चौतरफा बिकवाली हावी रही और सेंसेक्स में 1,525 अंकों तक की गिरावट देखने को मिली, हालांकि बाद में 1,448 अंक कमजोर होकर 38,297.29 पर बंद हुआ। इसी प्रकार निफ्टी 431.55 अंक टूटकर 11,201.75 पर बंद हुआ। सेंसेक्स में आठ फीसदी की कमजोरी के साथ टेक महिंद्रा सबसे ज्यादा गिरने वाला शेयर रहा। इसके अलावा टाटा स्टील, महिंद्रा ऐंड महिंद्रा, एचसीएल टेक, इन्फोसिस, एसबीआई और बजाज फाइनेंस में 7.50 फीसदी तक गिरावट दर्ज की गई।

छह सत्र में 3,000 अंक टूटा सेंसेक्स

पिछले छह कारोबारी सत्र से जारी गिरावट पर गौर करें तो इस दौरान निवेशकों के शेयर बाजार में लगभग 11.76 लाख करोड़ रुपये डूब गए हैं। इस दौरान सेंसेक्स 2,974 अंक यानी लगभग 7.3 फीसदी कमजोर होकर 38,297 पर बंद हुआ, जबकि बुधवार को यह 41,323 के स्तर पर था। वहीं एक दिन में निवेशकों की बाजार पूंजी 5.46 लाख करोड़ रुपये घटकर 146.93 लाख करोड़ रुपये रह गई।

एफपीआई की बिकवाली ने बढ़ाई चिंता: विश्लेषक

विश्लेषकों के मुताबिक, दुनिया भर में कोरोना के पीड़ितों के मामले सामने आने और इसके आर्थिक असर के आकलन से वैश्विक बाजारों में चिंता बढ़ती जा रही है। चीन से शुरू होने के बाद दुनिया भर में लगभग 83 हजार लोग इसके पीड़ित हो चुके हैं। ट्रेडर्स ने कहा कि विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) द्वारा भारी बिकवाली से खुदरा निवेशकों की चिंता बढ़ गई है।
स्टॉक एक्सचेंज से मिले अनुमानित आंकड़ों के मुताबिक, इस हफ्ते एफपीआई ने लगभग 9,389 करोड़ रुपये की बिकवाली की है।

कई सेक्टरों की बाजार पूंजी एक लाख करोड़ से ज्यादा घटी

सेक्टरों की बात करें तो पिछले छह कारोबारी सत्र के दौरान रिफाइनरी, बैंक, वित्त और सूचना प्रौद्योगिकी सहित कई क्षेत्रों की बाजार पूंजी में एक लाख करोड़ रुपये से ज्यादा की कमी दर्ज की गई। इसके अलावा वाहन, बुनियादी ढांचा, विमानन, बिजली उत्पादन व वितरण और शिपिंग क्षेत्र में 19 फरवरी से अभी तक 10 फीसदी से ज्यादा की गिरावट दर्ज की गई है।

लगभग सभी एशियाई बाजारों में भी गिरावट जारी रही। जापान, दक्षिण कोरिया, थाईलैंड के अलावा ऑस्ट्रेलियाई बाजारों में तीन फीसदी से ज्यादा की गिरावट रही। इससे पहले वर्ष 2008 में आई मंदी में ऐसी स्थिति रही थी।दुनिया भर में निवेशकों के डूबे 216 लाख करोड़ रुपये

About News Room lko

Check Also

CSS Founder कैसे समाज सेवा के साथ दे रहा है एक संदेश, मेड इन इंडिया के सपने को कर रहा है साकार

आज के तकनीकी दौर में हर बिजनेस को आगे बढ़ाने के लिए एक वेबसाइट की ...