Anandpal encounter में सीबीआई ने 200 लोगों के दर्ज किये बयान

पिछले वर्ष चूरू जिले के मालासर गांव में हुए प्रदेश के बहुचर्चित Anandpal encounter मामले की जांच में सीबीआई ने 200 लोगों से पूछताछ की है। सीबीआई टीम ने इस मामले में अजमेर की हाई सिक्योरिटी जेल में बंद आनंदपाल के भाई रूपेश उर्फ विक्की व देवेन्द्र उर्फ गुट्टु से भी 6 घंटे तक पूछताछ की है। सीबीआई कोर्ट जयपुर से परमीशन के बाद चूरू से सीबीआई के उपाधीक्षक सुनील एस रावत के नेतृत्व में पांच सदस्यीय टीम ने पूछताछ की।

  • जिसमें अलग अलग बयान सामने आये। रूपेश उर्फ विक्की व देवेन्द्र उर्फ गुट्टु की गिरफ्तारी के बाद आनंदपाल का एनकाउंटर हुआ था।

Anandpal encounter मामले में अलग अलग तीन मामले दर्ज

आनंदपाल एनकाउंटर के बाद आनंदपाल के गांव सांवराद में सभा के दौरान उपद्रव भी हुआ था। जिसमें एक युवक की मौत हो गई थी। एनकाउंटर के बाद राजपूत व रावणा राजपूत समाज की मांग को देखते हुए राज्य सरकार ने इस मामले की सीबीआई जांच की सिफारिश की थी। राज्य सरकार की सिफारिश मंजूर होने के बाद सीबीआई ने इस मामले में इस वर्ष 6 जनवरी को पूरे प्रकरण को लेकर तीन अलग-अलग मामले दर्ज किए थे। इनमें एक मामला चूरू के रतनगढ़ इलाके में मालासर गांव में हुए एनकाउंटर का, दूसरा नागौर के सांवराद में हुए उपद्रव का व तीसरा उपद्रव में हुई युवक सुरेन्द्र सिंह की मौत का मामला दर्ज किया गया था।

  • एनकाउंटर का मामला रतनगढ़ थाने में और उपद्रव व युवक की मौत का मामला नागौर के डीडवाना में दर्ज किया गया था।
  • आनंदपाल एनकाउंटर की जांच कर ही टीम अब तक आनंदपाल की AK-47 व 22 राइफल समेत 27 पुलिसकर्मियों के हथियार, कारतूस व उनके खोल जब्त की करते हुए उन्हें जांच के लिए एफएसएल भेज दिया है।

सीबीआई की दो टीमें कर रही है तीन मामलों की जांच

तीनों मामलों की जांच सीबीआई की दो टीमें कर रही है। इनमें एनकाउंटर मामले की जांच सीबीआई के उपाधीक्षक सुनील एस रावत के नेतृत्व में टीम कर रही है। सांवराद उपद्रव व युवक सुरेन्द्र सिंह की मौत के मामले की जांच सीबीआई के उपाधीक्षक आर के सिन्हा की टीम कर रही है।

  • रावत और उनकी टीम ने जांच के लिए चूरू में और सिन्हा और उनकी टीम ने नागौर के डीडवाना में डेरा डाला है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *