Breaking News

इरान में बढ़ता जा रहा हिजाब के खिलाफ प्रदर्शन, प्रदर्शनकारियों और सुरक्षाबलों के बीच हुई बड़ी झडप

 ईरान में विरोध प्रदर्शन और उग्र होता जा रहा है। सुरक्षाबलों के बल प्रयोग से अब तक 3 प्रदर्शनकारियों की मौत हो चुकी है और करीब 220 लोग जख्मी हो गए हैं।ईरान में जारी अशांति हाल के वर्षों में सबसे खराब स्थिति तक पहुंच गई है और अभी कुछ भी स्पष्ट नहीं है.

उर्मिया, पिरानशहर और करमानशाह में सुरक्षा बलों द्वारा मारे गए तीन प्रदर्शनकारियों में एक महिला भी शामिल है। यह प्रदर्शन महसा अमिनी की पुलिस कस्टडी में मौत के बाद से हो रहा है।  सरकार के खिलाफ विरोध बढ़ता देख ईरान में इंटरनेट बैन कर दिया गया है। साथ ही इंस्टाग्राम और व्हाट्सएप को बैन कर दिया गया है।

इस्लामी क्रांति (1978-79) के बाद ईरान ने 1981 में एक अनिवार्य हिजाब कानून पारित किया था। इस्लामी दंड संहिता के अनुच्छेद 638 में कहा गया है कि महिलाओं का सार्वजनिक रूप से या सड़कों पर हिजाब के बिना दिखाई देना अपराध है।

इस महीने की शुरुआत में बताया था कि ईरानी अधिकारी उन महिलाओं की पहचान करने के लिए सार्वजनिक परिवहन में फेशियल रिकग्निशन टेक्नोलॉजी का उपयोग करने की योजना बना रहे हैं, जो हिजाब नियमों का ठीक से पालन नहीं कर रही हैं। सोशल मीडिया में ऐसे कई वीडियो वायरल हुए हैं, जिनमें ईरानी महिलाएं सरकार के विरोध में हिजाब जला रही हैं और अपने बालों को काट रही हैं।

About News Room lko

Check Also

ओमान में महात्मा गांधी की पहली प्रतिमा का हुआ अनावरण

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें भारत के विदेश राज्य मंत्री वी. मुरलीधरन 3 ...