Breaking News

जायसवाल समाज का होली मिलन एवं विवाह परिचय कार्यक्रम 9 मार्च को गांधी सभागार में होगा

लखनऊ। जायसवाल समाज लखनऊ द्वारा आयोजित 22वा होली मिलन समारोह एवम् वैवाहिक परिचय कार्यक्रम प्रत्येक वर्ष की भांति इस वर्ष भी 9मार्च 2023 को गांधी प्रेक्षागृह, कैसरबाग लखनऊ में भव्यता के साथ आयोजित आयोजित किया जा रहा है। होली मिलन में बृज की फूलो की होली मुख्य आकर्षण का केंद्र रहेगी। इस दौरान विवाह योग्य युवक-युवतियों का परिचय भी कराया जाएगा। गौरतलब हो, अभी तक हजारों रिश्ते समाज द्वारा कराए जा चुके हैं, जो अपने अपने परिवार के साथ सुखी जीवन यापन कर रहे हैं।

काशी के मणिकर्णिका घाट महाश्मशान में खेली गई जलती चिताओ के भस्म से होली

कार्यक्रम के दौरान ही समाज की “स्मारिका 2023” का विमोचन उपमुख्यमंत्री बृजेश पाठक एवम् पूर्व उपमुख्यमंत्री डॉक्टर दिनेश शर्मा द्वारा किया जाएगा। इस पत्रिका में करीब 1000 विवाह योग्य युवक-युवतियों के कलर चित्र सहित विवरण मौजूद होगा। जिसमें डॉक्टर, इंजीनियर, अधिवक्ता, सरकारी कर्मचारी, व्यवसाई, उद्योगपति आदि शामिल हैं।

मालूम हो कि उत्तर प्रदेश जायसवाल स्वर्गीय महासभा के प्रदेश अध्यक्ष सुरेंद्र जायसवाल द्वारा समाज के कार्यों एवं आर्थिक रूप से कमजोर विवाह योग्य युवक युक्तियों की हर संभव मदद की जाती है। जिसके तहत युवाओं को रोजगार दिलाने में मदद के साथ ही समाज की निराश्रित महिलाएं को प्रत्येक माह पेंशन आदि की सहायता पहुंचाना भी शामिल है। इतना ही नहीं मेघावी छात्र, जिन्होंने हाई स्कूल, इंटरमीडिएट की परीक्षाओं में 75% से अधिक अंक हासिल किया है उनको भी हर वर्ष छात्रवृत्ति दी जाती है।

प्रयागराज-कौशांबी में अतीक के मददगारों के मकान पर चला बुलडोजर, फटाफट जाने पूरी खबर

प्रेस वार्ता के दौरान उपस्थित रहे लखनऊ जायसवाल समाज लखनऊ के अध्यक्ष अजय जायसवाल एवं उत्तर प्रदेश जायसवाल सर्ववर्गीय महासभा के अध्यक्ष सुरेन्द्र जायसवाल ने बताया कि जायसवाल समाज ओबीसी श्रेणी में आने के बावजूद उत्तर प्रदेश के जायसवाल एवं उनकी उपजातियां जैसे गुप्ता, शिवहरे, गुलहरे आदि की संख्या लगभग 2 करोड़ है फिर भी समाज के लोगों को राजनीति में उचित स्थान एवं अधिकार नहीं मिलता है जबकि प्रदेश सरकार बनाने में जायसवाल समाज के लोगों की अहम भूमिका होती है।

जायसवाल समाज

भारत के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश में समाज के अभी सिर्फ 5 विधायक वाराणसी से रविंद्र जायसवाल, बहराइच से अनुपमा जायसवाल, रमेश जायसवाल चंदौली से, मनीष जायसवाल पडरौना से और विजय शिवहरे जो विधानसभा सदस्य आगरा से हैं। पांच विधायकों में से सिर्फ रविंद्र जायसवाल को स्वतंत्र प्रभार राज्य मंत्री का दर्जा मिला है। बाकी किसी को भी मंत्री मंडल में जगह नही दी गई है।

जायसवाल समाज उत्तर प्रदेश सरकार से मांग करता है कि रविंद्र जायसवाल को कैबिनेट मिनिस्टर का दर्जा दिया जाए तथा बाकी चारों विधायक में से किसी एक विधायक को राज्यमंत्री का दर्जा प्राप्त हो।

जायसवाल समाज की उत्तर प्रदेश सरकार मांग 

  1. जैसवालों की स्थानीय निकाय चुनाव में भागीदारी निश्चित की जाए
  2. राज्य मंत्री रविंद्र जायसवाल को कैबिनेट मिनिस्टर का दर्जा दिया जाए
  3. बाकी बचे चारों जायसवाल विधायको में से किसी एक को राज्यमंत्री का दर्जा प्राप्त हो
  4. विश्व प्रसिद्ध इतिहासकार एवं स्वतंत्रता संग्राम सेनानी “डॉक्टर काशी प्रसाद जायसवाल” को मरणोपरांत भारत रत्न दिया जाए
  5. डॉक्टर काशी प्रसाद जायसवाल की विशाल प्रतिमा मिर्जापुर एवं बनारस में लगाई जाए
  6. कम से कम एक विश्वविद्यालय इतिहासकार एवं स्वतंत्रता संग्राम सेनानी “डॉक्टर काशी प्रसाद जायसवाल” के नाम पर रखा जाए 

विशाल होली मिलन समारोह एवं वैवाहिक परिचय सम्मेलन को सफल बनाने के लिए कोषाध्यक्ष सर्वेश जायसवाल, मीडिया प्रभारी अश्वनी जायसवाल, महामंत्री रेखा जायसवाल, राजेश जायसवाल, सांस्कृतिक प्रभारी रागिनी, पूजा जायसवाल, राजेश जायसवाल (आरके पैलेस), अखिलेश जायसवाल, अभिनेत्री राखी जायसवाल, मनोज गुप्ता सहित समाज के तमाम लोग अपनी सक्रिय भूमिका निभा रहे हैं।

About Samar Saleel

Check Also

एशिया आर्थिक संवाद में जुटे 11 देशों के नीति निर्माता और उद्योग विशेषज्ञ

विदेश मंत्रालय और पुणे इंटरनेशनल सेंटर की ओर से गुरुवार को यहां एशिया आर्थिक संवाद ...