Breaking News

प्रधानमंत्री मोदी ने पापुआ न्यू गिनी की अपनी यात्रा के दौरान प्राचीन तमिल पाठ तिरुक्कुरल पर अनुवादित पुस्तक का विमोचन किया

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने फोरम फॉर इंडिया-पैसिफिक आइलैंड्स कोऑपरेशन (FIPIC) के तीसरे शिखर सम्मेलन के लिए सोमवार को पापुआ न्यू गिनी का दौरा किया। पीएम मोदी ने पापुआ न्यू गिनी के प्रधानमंत्री जेम्स मारापे के साथ थिरुक्कुरल इन टोक पिसिन (Thirukkural in Tok Pisin) पुस्तक लॉन्च की।

2024 के लोकसभा चुनाव में बाबा का बुलडोज़र बीजेपी के लिए प्रशस्त करेगा दिल्ली का रास्ता

इस प्राचीन तमिल पाठ का अनुवाद प्रधानमंत्री जेम्स मारपे के विशेष अनुरोध पर पापुआ न्यू गिनी की स्थानीय भाषा टोक पिसिन में शशिंद्रन मुथुवेल और सुभा अबरना द्वारा किया गया है।

मूल रूप से तमिलनाडु का यह जोड़ा पापुआ न्यू गिनी में रहता है और इस पुस्तक को लिखने की उनकी प्रेरणा दुनिया में समृद्ध सांस्कृतिक विविधता की सराहना करना और पापुआ न्यू गिनी और भारत के लोगों के बीच एक बड़ा सांस्कृतिक जुड़ाव भी बनाना था। इस जोड़े ने पापुआ न्यू गिनी में भारतीय संस्कृति को बढ़ावा देने वाले संगठन पीएनजी तमिल वलार्की संगम की भी स्थापना की।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi)

भारतीय मूल के लेखकों से परे इस पुस्तक का निर्माण टोक पिसिन भाषा के स्थानीय विशेषज्ञों, विशेष रूप से एक वरिष्ठ शिक्षा सलाहकार मार्टिन बाई के योगदान के माध्यम से भी संभव हुआ है, जो एक सुलभ और पठनीय बनाए रखते हुए मूल पाठ के सार को कैप्चर करते हैं।

लोकसभा चुनाव 2024 की तैयारी को लेकर भाजपा ने लिया ये फैसला, करने जा रहे पूरे देश में…

इस प्रकार यह पुस्तक पापुआ न्यू गिनी के लोगों के बीच तमिल संस्कृति और परंपराओं के प्रति बहुभाषी पहुंच सुनिश्चित करती है। पीएम मोदी ने अपने भाषणों में कई बार प्राचीन पाठ के बारे में बताया है। दुनिया भर में तिरुक्कुरल की मौजूदा व्यापकता को देखते हुए, यह देखना दिलचस्प होगा कि यह पापुआ न्यू गिनी के लोगों को कैसे प्रभावित करता है।

रिपोर्ट: शाश्वत तिवारी

About Samar Saleel

Check Also

ऑस्ट्रेलियाई पीएम भी चाहते हैं जूलियन असांजे की घर वापसी, कहा- मामले को लंबा खींचा गया

अमेरिका की जासूसी के आरोप में लंदन की जेल में बंद विकीलीक्स के संस्थापक जूलियन ...