Breaking News

इस धनतेरस “काश्यम कलेक्शन” के साथ रिलायंस ज्वेल्स ने की उत्सव की शुरुआत

भारत के सबसे भरोसेमंद ज्वैलरी ब्रांडों में से एक, रिलायंस ज्वेल्स ने इस बार त्योहारों के मौसम की शानदार तरीके से शुरुआत करते हुए उम्दा आभूषणों के बेमिसाल कलेक्शन, “काश्यम” को लॉन्च किया है। यह कलेक्शन बनारस की समृद्ध विरासत, परंपरा और आस्था को दर्शाने वाली कला एवं संस्कृति, मंदिरों और आश्चर्यजनक वास्तुकला से प्रेरित है।

ग्राहकों को काशी विश्वनाथ दुर्गा कुंड मंदिर, रत्नेश महादेव मंदिर, विशालाक्षी एवं बौद्ध मंदिर, रामनगर किला, तुलसी घाट, प्राचीन प्रवेशद्वार और जंतर-मंतर की कला के विभिन्न स्वरूपों के साथ-साथ बनारसी साड़ी, गंगा आरती, गंगा घाट तथा गुलाबी मीनाकारी एवं नक्काशी की जीवंत एवं अत्यंत मनमोहक कला पर आधारित विभिन्न प्रकार के अलंकृत डिजाइन और शानदार ढंग से तैयार किए गए आभूषणों में से अपने पसंदीदा गहनों को चुनने का अवसर मिलता है।

उत्कृष्ट डिजाइनों की बेमिसाल परंपरा को आगे बढ़ाते हुए तथा नवरात्रि, दुर्गा पूजा, दिवाली और धनतेरस के साथ-साथ शादियों जैसे विशेष अवसरों को अपने ग्राहकों के लिए और भी खास बनाने के लिए ब्रांड ने इस शानदार कलेक्शन को लॉन्च किया है, जो सोने एवं हीरों के बेहद खूबसूरत हार, झुमके और चूड़ियों के रूप में बनारस की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत, आश्चर्यजनक वास्तुकला एवं शिल्पकला को प्रदर्शित करते हैं।

इस कलेक्शन में ग्राहकों को आभूषणों के बेजोड़ विकल्प मिलते हैं, और यहाँ ग्राहक बेहद आकर्षक एवं अव्वल दर्जे के ‘चोकर सेट’ तथा नक्काशीदार एवं मनमोहक ‘नेकलेस सेट’ से लेकर बेहद नाजुक एवं खूबसूरत ‘नेकलेस सेट’ और ‘बैंगल्स’ में से अपने पसंदीदा गहनों का चयन कर सकते हैं। यहाँ अलग-अलग अवसरों और हर तरह के बजट के अनुरूप गहनों की काफी बड़ी रेंज उपलब्ध है। गोल्ड कलेक्शन के डिजाइनों में मीनाकारी कला के साथ उत्कृष्ट विरासत और मंदिर शैली के आभूषण, एंटीक एवं येलो गोल्ड फिनिश, तथा येलो गोल्ड और एंटीक फिनिश में सोने के तारों की बेहद महीन कारीगरी वाले गहने शामिल हैं। इस कलेक्शन के लिए तैयार किए गए डायमंड सेट आपके त्योहारों के साथ-साथ ब्राइडल और कंटेम्पररी लुक के लिए एकदम उपयुक्त हैं।

इस कलेक्शन की एक झलक देखें:  https://www.youtube.com/watch?v=NCg3GFb7cvc

बनारस के वैभव को दर्शाने वाले ‘काश्यम कलेक्शन’ में ये आभूषण शामिल हैं:

बनारसी साड़ी कलेक्शन: बनारसी साड़ियाँ भारत की बेहतरीन साड़ियों में शामिल हैं, जो सोने एवं चांदी के ब्रोकेड या ज़री, उम्दा रेशम और शानदार कढ़ाई के लिए मशहूर हैं। बनारसी साड़ी कलेक्शन, डिजाइन के लिहाज से उत्कृष्ट बनारसी साड़ियों से प्रेरित हैं।

गुलाबी मीनाकारी कलेक्शन: यह भारत के कुछ दुर्लभ शिल्पकलाओं में से एक है, जो बनारस में गई घाट के नजदीक की सँकरी गलियों में प्रचलित है। मुगल काल के दौरान, 17वीं सदी की शुरुआत में फारसी मीनाकारी में माहिर लोगों द्वारा इस कला को वाराणसी शहर में लाया गया था। ‘मीना’ शब्द फारसी शब्द ‘मीनू’ का स्त्रीलिंग रूप है, जिसका मतलब ‘जन्नत’ होता है। यह जन्नत के आसमानी रंग को दर्शाता है।

काशी विश्वनाथ टेम्पल कलेक्शन: यह टेम्पल कलेक्शन, भगवान शिव को समर्पित देश के सबसे प्रसिद्ध हिंदू मंदिरों में से एक पर आधारित है। इस मंदिर की संरचना तीन अलग-अलग हिस्सों से मिलकर बनी है। पहले हिस्से में भगवान विश्वनाथ या भगवान महादेव के मंदिर पर मौजूद शिखर शामिल है। दूसरे हिस्से में सोने का गुंबद है और तीसरा हिस्सा शीर्ष पर मौजूद सोने का शिखर है, जिसके ऊपर भगवान विश्वनाथ की ध्वजा और एक त्रिशूल है।

एन्शिएन्ट गेटवे कलेक्शन: कला की बारीकियों को समझने वाले लोगों के लिए बनारस का दृश्य बेहद आनंददायक होता है। इसमें मन को मोह लेने वाली पुरानी सँकरी गलियों, घरों की स्थानीय संरचना से लेकर बेहद भव्य नक्काशी वाले मंदिर शामिल हैं; यहाँ के बेहद नक्काशीदार प्राचीन प्रवेश-द्वार को देखकर पहली ही नज़र में यह शहर मन को भा जाता है। कमल की कलियों की शानदार नक्काशी की वजह से मानो इन संरचनाओं में जान आ गई हो।

गंगा आरती और घाट कलेक्शन: वाराणसी में गंगा नदी की ओर ले जाने वाली सीढ़ियों को गंगा घाट कहते हैं। इस शहर में कुल 88 घाट हैं। इनमें से ज्यादातर घाट स्नान-ध्यान तथा पूजा-पाठ के लिए इस्तेमाल होते हैं, जबकि दो घाटों का विशेष रूप से श्मशान स्थलों के रूप में उपयोग किया जाता है।

रामनगर फोर्ट कलेक्शन: पवित्रता की भावना सचमुच प्रेम की सबसे शानदार अभिव्यक्तियों में से एक है। और रामनगर किला भी सुंदरता के प्रति सच्चे प्रेम को दर्शाता है। मुगल शैली की नक्काशी के साथ तैयार किया गया यह शाही महल इस बात की जीती-जागती मिसाल है, कि कैसे जीवन के हर क्षेत्र में खूबसूरती का अनुभव किया जा सकता है।

जंतर मंतर कलेक्शन: बनारस वाकई कई अनमोल चीजों का स्थान है। और जंतर मंतर भी उनमें से एक है। इसे वर्ष 1737 में महाराजा जय सिंह ने बनवाया था जो वास्तुशिल्प का आश्चर्यजनक उदाहरण है। यहां भी इस पवित्र शहर की तरह कालातीत और अद्भुत है। यह अध्यात्म और संस्कृति से का मिला-जुला रूप है।

इस नए कलेक्शन के बारे में अपने विचार व्यक्त करते हुए सुनील नायक, सीईओ, रिलायंस ज्वेल्स, ने कहा, “त्योहार भारत की संस्कृति का बेहद अहम हिस्सा हैं और धनतेरस, पुष्य नक्षत्र, दिवाली जैसे त्योहारों का हमारे देश में बेहद खास स्थान है। धनतेरस के मौके पर सोने की खरीद को शुभ माना जाता है। ऐसे पावन अवसर के लिए, आभूषणों के डिजाइन में अपनी परंपरा को जारी रखते हुए हमें ‘काश्यम कलेक्शन’ को पेश करते हुए बेहद खुशी हो रही है, जो बनारस से प्रेरित एवं बेहतरीन ढंग से तैयार किया गया कलेक्शन है। इस कलेक्शन में शामिल सोने एवं हीरे का प्रत्येक हार और झुमका बेमिसाल है, जो बनारस की विविधतापूर्ण कला, परंपरा और विरासत के खजाने को दर्शाते हैं। धनतेरस के पावन त्योहार से पहले, हम अपने ग्राहकों के लिए ‘काश्यम कलेक्शन’ की पेशकश कर रहे हैं, ताकि वे सबसे उत्तम एवं कलात्मक रूप से आकर्षक डिजाइनों वाले गहनों से सुशोभित अपने प्रियजनों के साथ इस त्योहार के हर पल को यादगार बना सकें, जो वैभव, श्रेष्ठता, शुद्धता और कला का प्रतीक है।”

काश्यम कलेक्शन के आभूषण पूरे भारत में रिलायंस ज्वेल्स आउटलेट्स पर उपलब्ध हैं। रिलायंस ज्वेल्स के शोरूम में खरीदारी करने पर आप गोल्ड तथा डायमंड ज्वैलरी मेकिंग पर 30% तक की छूट का आनंद ले सकते हैं। हमारे स्टोर्स में आने वाले परिवारों की सुरक्षा के लिए, हमारे सभी स्टोर्स पर सुरक्षा दिशानिर्देश और स्वच्छता उपायों को लागू किया गया है। ग्राहक रिलायंस ज्वेल्स की वेबसाइट  https://bit.ly/3A0D7RS  पर इस शानदार कलेक्शन के चुनिंदा डिजाइनों वाले आभूषणों की खरीद कर सकते हैं, साथ ही ग्राहक अपने घर से वर्चुअल ट्राई-ऑन विकल्प का भी अनुभव प्राप्त कर सकते हैं।

About Samar Saleel

Check Also

जियो के दम पर बढ़ रही है इंडस्ट्री की 4जी डाउनलोड स्पीड

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें नई दिल्ली। 4जी मोबाइल ग्राहकों के लिए खुशखबरी- ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *