Breaking News

कर्ज में डूबी एयर इंडिया को खरीदना क्या पड़ेगा टाटा ग्रुप के लिए भारी व मौजूदा कर्मचारियों का क्या होगा ?

टाटा समूह ने शुक्रवार को कर्ज में डूबी एयर इंडिया के अधिग्रहण के लिए वित्तीय बोली जीती। यह निर्णय लगभग दो दशकों के अंतराल के बाद केंद्र के निजीकरण कार्यक्रम की शुरुआत का प्रतीक है।

सरकार ने एयरलाइन के लिए 12,906 करोड़ रुपये का आरक्षित मूल्य निर्धारित किया था। टाटा समूह ने एयर इंडिया के अधिग्रहण के लिए आरक्षित मूल्य से अधिक 18,000 करोड़ रुपये की बोली लगाई थी। इसमें से 15,300 करोड़ रुपये कर्ज है और बाकी 2,700 करोड़ रुपये नकद में होंगे।

जबकि, स्पाइसजेट के प्रमोटर अजय सिंह के नेतृत्व वाले कंसोर्टियम ने 15,100 करोड़ रुपये की वित्तीय बोली राशि का हवाला दिया था। सरकार का लक्ष्य दिसंबर 2021 तक एयरलाइन को टाटा समूह को सौंपना है।

गृह मंत्री अमित शाह, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल और नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया सहित मंत्रियों के समूह ने 4 अक्टूबर को एयर इंडिया के लिए विनिंग बिड को मंजूरी दे दी।

एयर इंडिया में 12,085 कर्मचारी हैं – 8,084 स्थायी और 4,001 संविदात्मक। इसके अलावा, एयर इंडिया एक्सप्रेस में 1,434 हैं। नागरिक उड्डयन सचिव राजीव बंसल ने कहा कि अगले पांच वर्षों में करीब 5,000 स्थायी कर्मचारी सेवानिवृत्त होंगे।

 

About News Room lko

Check Also

सुप्रीम कोर्ट का आदेश- ट्रायल कोर्ट से दोषी ठहराये जाने के बाद हाईकोर्ट न दें जमानत

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि एक बार ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *