Breaking News

नव वर्ष 2023 पर ऐतिहासिक गुरूद्वारा श्री गुरू नानक देव नाका हिण्डोला में सजा दीवान

लखनऊ। आज 31 दिसम्बर को नव वर्ष के आगमन दिवस पर रात्रि का विशेष दीवान ऐतिहासिक गुरूद्वारा श्री गुरू नानक देव जी नाका हिण्डोला,लखनऊ में सजाया गया।

तमाम उतार-चढ़ाव के बीच साल 2022 ने छोड़े 2023 के लिए अपार सम्भावनाएं

इस अवसर पर गुरुद्वारा साहिब के दरबार हाल को फूलों एवं बिजली की झालरों से बड़ी खूबसूरती से सजाया गया। सिमरन साधना परिवार के बच्चों ने शबद कीर्तन गायन किया। उसके उपरान्त मुख्य ग्रंथी ज्ञानी सुखदेव सिंह ने नव वर्ष पर गुरमत विचार द्वारा व्याख्यान किया।

हजूरी रागी जत्था भाई राजिन्दर सिंह ने शबद कीर्तन गायन एवं “वाहिगुरु” का नाम सिमरन करवाते हुए समूह साध संगत को नये वर्ष में प्रवेश करवाया सम्पूर्ण दरबार हाल “बोले सो निहाल सत श्री अकाल” के जैकारों से गूँज उठा। उसके उपरान्त सभी ने एक दूसरे को नव वर्ष की बधाई दी। कार्यक्रम का संचालन सतपाल सिंह मीत ने किया। महामंत्री हरविंदर सिंह टीटू ने बताया कि पिछले कई वर्षों से नव वर्ष के अवसर पर गुरुद्वारा साहब में गुरमत समागम होता है ताकि सभी लोग परमात्मा के नाम का सिमरन करते हुए नव वर्ष में प्रवेश करें।

मंत्रीगणों ने प्रदेशवासियों को नववर्ष 2023 की दी शुभकामनाएं

दीवान की समाप्ति के पश्चात लखनऊ गुरूद्वारा प्रबन्धक कमेटी के अध्यक्ष स0 राजेन्द्र सिंह बग्गा ने आई साध संगतों को सम्बोधित करते हुए नव वर्ष की बधाई दी। उसके उपरांत दशमेश सेवा सोसायटी के सदस्यों ने चाउमिन, पास्ता, गाजर का हलवा और केसरिया का संगतो ने वितरित किया।

रिपोर्ट-दया शंकर चौधरी

About Samar Saleel

Check Also

श्री दुर्गा अष्टमी विशेष: माता सीता की कुल देवी के रूप में विराजमान हैं माँ छोटी देवकाली

• माता सीता के कुल देवी के रूप में की जाती है पूजा। • मान्यता ...