Breaking News

Bijasan माता मंदिर की मान्यता

इंदौर के देवी अहिल्याबाई होल्कर अंतर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट के समीप टेकरी पर देवी के नौ स्वरूपों में विराजित प्राचीन बिजासन Bijasan माता मंदिर काफी प्रसिद्ध है। यहां नवरात्री में तो भक्तों की भीड़ रहती ही है लेकिन आम दिनों में भी यहां माता के दर्शन हेतु भक्तों का आवागन लगा रहता है। पहाड़ी पर विराजीत बिजसान माता के दर्शन मात्र से ही कई प्रकार के रोग और कष्ट दूर होते है। पहाड़ी पर विराजीत होने से बिजासन माता को तेकरीवाली माता के नाम से भी जाना जाता है। बिजासन माता को पुत्रदायिनी भी माना गया है। माता सुनी गोद भी भरती है। टेकरी से इंदौर का नजारा देखने में इंदौर का मनोरम दृष्य दिखाई देता है जो मन को सुकुन देता है। हजारों वर्ष पुराने बिजासन माता के मंदिर का निर्माण महाराजा शिवाजीराव होलकर ने करवाया था।

Bijasan माता के रूप में

देवी दुर्गा बिजासन Bijasan माता के रूप में 9 देवियों के स्वरूप में विराजित है। नवरात्री में बिजासन माता के दर्शन करने की काफी मान्यताएं है। मंदिर पर नवरात्री में अनेक आयोजन होते है। साथ ही इंदौर नगर से चुनरी यात्रा निकालकर माता को चुनरी भी ओढ़ाई जाती है। मंदिर का इतिहास हजारों साल पुराना है।

मंदिर के इतिहास के बारे में बताया जाता है कि एक जमाने में बिजासन टेकरी पर काले हिरणों का जंगल था। तंत्र- मंत्र और सिद्धी के लिए उन दिनों मंदिर ने अपनी पहचान बनाई थी। चबूतरे पर विराजीत बिजासन माता से महाराजा ने रण जितने की मन्नत ली थी। महाराजा की शिवाजीराव होलकर ने मन्नत पूरी होने पर 1760 में मंदिर का निर्माण करवाया था। जैसे-जैसे समय बीतता गया वैसे-वैसे बिजासन माता मंदिर पर अनेक चमत्कार हुए और आस्था बढ़ती गई।

शारदीय नवरात्री में मेला

बिजसान माता मंदिर पर चैत्र और शारदीय नवरात्री में मेला लगता है। माता के मंदिर के समीप ही टेकरी पर एक छोटा सा तालाब है। जहां बड़ी संख्या में मछलियां है। तालाब को लेकर यह मान्यता है कि बिजासन माता के दर्शन के लिए आने वाले भक्तों को मछलियों को दाना खिलाने से माँ उनकी मनोकामना जरूर पूरी करती है। साथ ही इन मछलियों को दाना खिलाने से पुण्य भी मिलता है। जब भी आप माता के दर्शन करने जाएंगे तो टेकरी पर मौजूद इस तालाब पर आपको सैकड़ो भक्त मछलियों को दाना खिलाते जरूर नजर आएंगे।

बिजसान माता अपने भक्तों की हर मुराद पूरी करती है। एक अनुमान के मुताबिक नवरात्री में तीन लाख से अधिक भक्त माता के दर्शन करने यहां पहुंचते है। बिजानसन माता को सौभाग्य और पुत्रदायिनी माना जाता है। इंदौर ही नहीं प्रदेश भर से नवविवाहित जोड़े यहां पहुचंकर माता के दर्शन-पूजन करते है। बिजासन माता को पुत्रदायिनी कहां गया है। यहां महिलाएं अपनी सूनी गोद लेकर आती है और माता से मन्नत लेने पर माता उनकी सूनी गोद भरती हैं। नवरात्री में यहां पानी से दीपक जलने की मान्यताएं भी है।

 

About Samar Saleel

Check Also

यहाँ जानिए आखिर कैसा रहेगा आज आपका दिन, देखें अपना राशिफल

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें   मेष: आज आपकी राशि से एकादश चंद्रमा ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *