Breaking News

अटकलों पर विराम, मंत्रिमंडल विस्तार पर सीएम योगी ही लेंगे अंतिम फैसला

अनुपम चौहान
 अनुपम चौहान

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले कैबिनेट विस्तार की अटकलों के बीच भाजपा के वरिष्ठ नेता और यूपी के प्रभारी राधा मोहन सिंह ने रविवार को राज्यपाल आनंदीबेन पटेल से मुलाकात की। मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि सही समय पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ इसपर फैसला लेंगे। हफ्ते की शुरुआत में बीजेपी के शीर्ष नेताओं ने लखनऊ में समीक्षा बैठक की थी।तभी से इस बात के कयास लगाए जा रहे हैं कि योगी कैबिनेट का विस्तार किया जा सकता है।

राज्यपाल से मुलाकात के बाद राधा मोहन सिंह ने राज्यपाल के साथ मुलाकात को शिष्टाचार भेंट करार देते हुए कहा कि जब से मैं प्रदेश का प्रभारी बना हूं, तब से राज्यपाल से मुलाकात नहीं हुई थी। मुख्यमंत्री के सवाल पर उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अच्छा काम कर रहे हैं। सभी उनका लोहा मानते हैं। कोरोना काल में उन्होंने जिस तरह से काम किया है, यह सभी जानते हैं। श्री सिंह ने कहा, कुछ लोग अपने दिमाग में ख्यालों की खेती कर रहे है, इसका कोई इलाज नहीं है। बीजेपी संगठन और सरकार अच्छी तरह चल रहे हैं। कुछ सीटें खाली हैं, जिस पर उचित समय पर मुख्यमंत्री निर्णय लेंगे।

दरअसल, छह महीने बाद प्रदेश में विधानसभा चुनाव होने हैं। ऐसे में कयास लगाए जा रहे हैं कि योगी कैबिनेट में फेरबदल होगा और एमएलसी बने एके शर्मा को कैबिनेट में बड़ी जिम्मेदारी दी जा सकती है। बीजेपी पदाधिकारी ने इससे इनकार करते हुए गेंद योगी आदित्यनाथ के पाले में डालकर इस मामले में विराम लगाने की कोशिश की। लेकिन पार्टी पदाधिकारियों की बैठकें और भाजपा प्रभारी की राज्यपाल से मुलाकात को लेकर राजधानी में अटकलों का बाजार गर्म है।

योगी मंत्रिमंडल विस्तार की अटकलों के बीच भाजपा के प्रदेश प्रभारी राधा मोहन सिंह शनिवार को लखनऊ पहुंचे। देर शाम उन्होंने प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह तथा प्रदेश महामंत्री (संगठन) सुनील बंसल के साथ बैठक की। रविवार को गृह जनपद बिहार के मोतिहारी रवाना होने से पहले उन्होंने राज्यपाल से मुलाकात की। इसके बाद उन्होंने विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित से मुलाकात की।

अटकलों से इतर अगर बात नियमों की करें तो राधा मोहन सिंह की राज्यपाल से मुलाकात मंत्रिमंडल विस्तार  को लेकर काम और शिष्टाचार जाएगी। क्योंकि  राज्य में मंत्रिमंडल के विस्तार या मंत्रणा के लिये राज्यपाल से सिर्फ मुख्यमंत्री ही मुलाकात कर सकते हैं। अटकलें ये भी हैं कि मुलाकात इस विषय को लेकर भी हो सकती है कि राज्यपाल की नजर में राज्य सरकार किस तरह से काम कर रही है और उसमें किस तरह के बदलाव की जरूरत है।

क्या है बंद लिफाफे का राज

जानकारी के अनुसार राधामोहन सिंह ने मुलाकात के दौरान राज्यपाल को एक लिफाफा दिया। प्रदेश प्रभारी ने जो लिफाफा राज्यपाल को दिया है उसमें क्या है, ये  सभी के लिए एक सवाल बना हुआ है। क्या उसमे मंत्रिमंडल फेरबदल से जुड़ी कोई बात है या कुछ और। इसको लेकर असमंजस की स्थिति बरकरार है। हालांकि राजनीतिक विद्वान बंद लिफाफे को लेकर तरह तरह की संभावनाएं जता रहे हैं। जाहिर है कि यूपी में अगले साल 2022 में विधानसभा चुनाव होने है। जिसके लिए अभी से ही तैयारियां शुरू हो चुकी है।

योगी से अच्छा सीएम नहीं मिल सकता: स्वतंत्र देव

उत्तर प्रदेश में सियासी खींचतान के बीच प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने बड़ा बयान  देते हुए कहा कि प्रदेश को योगी आदित्यनाथ जैसा मुख्यमंत्री नहीं मिल सकता। कोई भी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जैसा परिश्रमी और ईमानदार नहीं हो सकता। उन्होंने अपने कार्यकाल में कानून का राज स्थापित किया है। स्वतंत्र देव का बयान उस समय आया जब प्रदेश में मुख्यमंत्री बदलने से लेकर कैबिनेट विस्तार होने तक की अटकलें लगाई जा रही हैं। ऐसे समय भाजपा प्रदेश अध्यक्ष का बयान अत्यधिक महत्वपूर्ण माना जा रहा है।

About Samar Saleel

Check Also

विशेष विरूपण जारी कर डाक विभाग ने मनाया अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें रायबरेली। वैश्विक संक्रामक महामारी कोरोना वायरस के प्रकोप ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *