Breaking News

अकीदत के साथ मना कर्बला के 72 शहीदों का चेहल्लुम

वाराणसी/रामनगर। हजरत इमाम हुसैन और कर्बला के शहीदों की याद में मनाया जाने वाले चेहल्लुम रविवार को अकीदत और परंपरागत तरीके से मनाया गया। इस मौके पर अज़ा-खानए अबुतालिब मछहरटटा से अलम, ताबूत जुलजनाह का जुलूस निकाला गया।

अकीदतमंदों ने मातम कर कर्बला के 72 शहीदों को याद किया। चेहल्लुम पर शनिवार की रात में गोलाघाट, मछहरटटा सहित मुस्लिम बहुल इलाकों में मजलिस और नौहा मातम किया गया। वहीं अंजुमन मुहाफ़िज़े अज़ा के तत्वाधान में अलम, ताबूत व जुलजनाह का मातमी जुलूस मछहरटटा से निकला रास्ते भर अंजुमन मुहाफ़िज़े अज़ा के सदस्य नौहा मातम करते हुए चल रहे थे।

इसके बाद अलम, दुल्दुल व ताबूत का कदीमी जुलूस हसन बाग़ इमामबाड़े पहुंचकर समाप्त हुआ। मजलिस को ख़िताब करते हुए मौलाना फरमान रज़ा नजफी ने कहा की कर्बला के मैदान में हजरत इमाम हुसैन मानवता की रक्षा करते हुए शहीद हो गए थे।

इमाम हुसैन जब कर्बला के मैदान में थे तो उनके साथ मात्र 72 हकपरस्त यानी वफादार सैनिक थे वहीं दूसरी ओर यजीद की लाखों हथियारबंद सेना थी। गिनती के चंद लोगों के साथ ईमान और इंसाफ के लिए लड़ते हुए इमाम हुसैन व उनके साथियों ने शहादत दी।

जुलूस में मुख्यरूप से सय्यद इब्राहीम रज़ा, सय्यद फरमान रज़ा, इनाम रज़ा, सय्यद अख्तर रज़ा आब्दी, नदीम आब्दी, क़रनैन, असद आब्दी, मुजतबा हुसैनी, बाक़र आब्दी, कुमैल रज़ा, एबाद रज़ा, इजलाल हैदर आब्दी, शबीब हैदर, समर अब्बास, सय्यद रजी ज़ैदी, मोहम्मद मेहंदी, बाक़र रजा, शबिहुल हसन फातमी, ज़हीर हसन ज़ैदी, अम्बर तुराबी, शहंशाह मिर्ज़ापुरी, शमीम अख्तर, मिर्जा मुशीर हसन, मुन्ना मिर्ज़ा, कासिम रज़ा, नक़ी हसन विक्की, युसूफ रिज़वी रईस, मोहम्मद आसिफ, मुजम्मिल मिर्जा, अरमान, जेनीश, कुमैल, इरफ़ान हुसैन, बशर, हसन इमाम जिम्मी, मीसम सहित सैकड़ों लोग शामिल रहे।

रिपोर्ट-जमील अख्तर

About Samar Saleel

Check Also

द्वादश ज्योर्तिलिंग मंदिर में महाअष्टमी पर गौ और कन्या भोग आयोजित किया गया

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें राधा कृष्ण और दुर्गा जी को किया गया ...