Breaking News

मुख्य सचिव एवं पुलिस महानिदेशक ने माघ मेला स्वच्छता, सुरक्षा और सुव्यवस्था की समीक्षा की

लखनऊ/प्रयागराज। मुख्य सचिव दुर्गा शंकर मिश्र एवं पुलिस महानिदेशक डीएस चौहान की अध्यक्षता में मेला प्राधिकरण स्थित आईसीसीसी सभागार में आगामी माघ मेला को स्वच्छता, सुरक्षा एवं सुव्यवस्था के उच्च मापदण्डों के आधार पर सम्पन्न कराये जाने हेतु की गई तैयारियों की समीक्षा बैठक आयोजित की गयी।
बैठक में मुख्य सचिव दुर्गा शंकर मिश्र ने माघ मेला की सभी तैयारियों को समय से सुनिश्चित कराने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि तैयारियों एवं व्यवस्थाओं में कोई कमी नहीं होनी चाहिए। मेला क्षेत्र में आने वाले श्रद्धालुओं, स्नानार्थिंयों एवं कल्पवासियों को किसी भी प्रकार की असुविधा न होने पाये, इसकी मुकम्मल व्यवस्था सुनिश्चित रहे।

उन्होंने पीडब्लूडी के कार्यों की समीक्षा करते हुए कहा कि कार्यों की गुणवत्ता में कोई कमी नहीं होनी चाहिए। उन्होंने मेला क्षेत्र में चकर्ड प्लेटों से बनायी गयी सड़कों का नियमित रूप से अनुश्रवण करते रहने के लिए कहा, जिससे कि यात्रियों को चलने में किसी भी प्रकार की असुविधा न होने पाये। जल निगम के द्वारा कराये गये कार्यों के बारे में जानकारी प्राप्त करते हुए उन्होंने कहा कि मेला क्षेत्र में कहीं पर भी पानी का लिकेज नहीं होना चाहिए। उन्होंने जल निगम को 24 घण्टे अनुश्रवण हेतु टीम बनाकर सक्रिय किए जाने के लिए कहा है, जिससे कि कहीं पर भी पानी का जल-जमाव या पानी का रिसाव न होने पाये। इसके साथ ही साथ किसी को भी पीने के पानी की असुविधा न होने पाये। उन्होंने कहा है कि सभी को समय से पानी का कनेक्शन उपलब्ध हो जाये।

उन्होंने गंगा प्रदूषण नियंत्रण इकाई को निर्देशित करते हुए कहा है कि गंगा एवं यमुना में बिना शोधन किए हुए कोई भी पानी न जाने पाये। विद्युत विभाग की समीक्षा करते हुए मेला क्षेत्र में लगायी गयी एलईडी लाईटों के सम्बंध में जानकारी ली। उन्होंने कहा कि मेला क्षेत्र में विद्युत लोड बढ़ने पर लाइट ट्रिपिंग की समस्या नहीं आनी चाहिए, इसकी व्यवस्था कर लें। उन्होंने विद्युत विभाग को मेला क्षेत्र में अच्छी क्वॉलिटी की एमसीवी लगाये जाने के लिए कहा है, जिससे मेला क्षेत्र में शार्ट सर्किट का खतरा न होने पाये। उन्होंने इसकी जांच भी करते रहने के निर्देश दिए है।

योगी सरकार प्रदेश के अनछुए पर्यटन स्थलों को खोज कर विकसित करने में जुटी

स्वास्थ्य विभाग की तैयारियों की समीक्षा करते हुए मुख्य सचिव ने मेला क्षेत्र में बनाये गये अस्पतालों में बेड़ों की संख्या के बारे में जानकारी ली। उन्होंने मेला क्षेत्र में कोविड से निपटने के लिए की गयी तैयारियों के सम्बंध में जानकारी लेते हुए कहा कि मेला क्षेत्र में तैनात किए गए वालंटियर के माध्यम से लोगों को जागरूक किया जाये। उन्होंने मेला क्षेत्र में विभिन्न स्थानों पर मास्क एवं सैनेटाइजर रखे जाने के लिए कहा है। उन्होंने मेला क्षेत्र में लगायी गयी एम्बुलेंस के बारे में जानकारी प्राप्त की। उन्होंने अस्पतालों में वेण्टीलेटर की पर्याप्त व्यवस्था बनाये रखने एवं ऑक्सीजन प्लांट को चेक कर उसको क्रियाशील बनाये रखने के लिए कहा है।

सिंचाई विभाग की समीक्षा करते हुए मुख्य सचिव ने पूरे मेला अवधि में पर्याप्त मात्रा में अविरल एवं स्वच्छ जल की उपलब्धता बनाये रखने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि गंगा जी में जब भी पानी छोड़ा जाये, उसकी सूचना पहले से ही सम्बंधित को उपलब्ध करा दी जाये, जिससे कि पानी बढ़ने से किसी भी प्रकार की अव्यवस्था न होने पाये। उन्होंने कहा कि मेले की बसावट ऊंचे स्थान पर हो, जिससे कि पानी बढ़ने पर कल्पवासियों को किसी भी प्रकार की असुविधा न हो।

उन्होंने कहा कि मेला क्षेत्र प्लास्टिक मुक्त होना चाहिए, इसके लिए व्यापक जनजागरूकता अभियान चलायें, जिससे कि लोग पॉलीथिन का प्रयोग न करें। लोगो सेे मेले को स्वच्छ बनाये रखने की अपील करें तथा ‘‘आपका अपना माघ मेला’’ से सम्बंधित लोगो भी पर्याप्त मात्रा में लगाये। उन्होंने पूरे मेला क्षेत्र में अग्निशमन की समुचित व्यवस्था बनाये रखने हेतु सभी आवश्यक तैयारियां सुनिश्चित किए जाने के लिए कहा है, जिससे कि कहीं पर भी अग्निकांड की घटना न होने पाये। मेला क्षेत्र पूरी तरह से फायर प्रूफ होना चाहिए, इसके लिए समुचित व्यवस्था सुनिश्चित रहे।

माघ मेला के दृष्टिगत पुलिस विभाग के द्वारा की गयी तैयारियों की समीक्षा करते हुए पुलिस महानिदेशक डीएस चौहान ने माघ मेले को सुरक्षित एवं सुगम आवागमन के साथ सम्पन्न कराये जाने के लिए कहा है। उन्होंने भीड़ प्रबंधन एवं पार्किंग की समुचित व्यवस्था पहले से ही सुनिश्चित किए जाने के लिए कहा है। पुलिस महानिदेशक ने परीक्षण के बाद ही नाव के संचालन की अनुमति प्रदान करने तथा उसमें यात्रियों के अनुरूप लाइफ जैकेट की व्यवस्था भी सुनिश्चित किए जाने के लिए कहा है। उन्होंने कहा है कि किसी भी दशा में निर्धारित संख्या से अधिक लोग नांवों में न बैठने पायें। उन्होंने गहरे पानी में बैरिकेटिंग किए जाने तथा गोताखोरों की पर्याप्त मात्रा में तैनाती सुनिश्चित किए जाने के लिए कहा है।

उन्होंने मुख्य स्नान पर्वों पर शहर में किसी भी स्थिति में जाम की व्यवस्था न उत्पन्न होने पाये, इसके लिए समुचित कार्य योजना बनाकर उसके अनुरूप तैयारी किए जाने के लिए कहा है। उन्होंने मेला क्षेत्र में पर्याप्त मात्रा में साइनेज लगाये जाने तथा पुलिस कर्मिंयों का अच्छे ढंग से प्रशिक्षण कराये जाने के लिए कहा है। उन्होंने कहा कि पुलिस कर्मिंयों का व्यवहार अच्छा होना चाहिए, जिससे कि मेला क्षेत्र में आने वाले लोग अच्छा संदेश लेकर जाये। उन्होंने पूरे मेला क्षेत्र में सुरक्षा व्यवस्था बनाये रखने के निर्देश दिए है। इसके लिए उन्होंने सीसीटीवी कैमरा, ड्रोन एवं अन्य माध्यमों से नियमित रूप से मेला क्षेत्र का अनुश्रवण करते रहने के लिए कहा है। उन्होंने मेला में महिला एवं पुुरूष के लिए अलग शौचालय बनाये जाने तथा महिलाओं के चेंजिंग एरिया में घेरा बनाये जाने के लिए कहा है। उन्होंने मेला क्षेत्र में चोरी की घटनाओं को रोकने के लिए भी सतत अनुश्रवण करते रहने के लिए कहा है। इस अवसर पर प्रमुख सचिव नगर विकास अमृत अभिजात, मण्डलायुक्त विजय विश्वास पंत, पुलिस आयुक्त रमित शर्मा, अपर पुलिस आयुक्त आकाश कुलहरि, जिलाधिकारी श्रीसंजय कुमार खत्री, मेलाधिकारी अरविंद चौहान सहित सम्बंधित विभागों के अन्य वरिष्ठ अधिकारीगण आदि उपस्थित रहे।

About Samar Saleel

Check Also

मलिकपुर में सिद्धार्थ बौद्ध विहार का हुआ शिलान्यास, आठ युवकों ने ली बौद्ध धर्म की दीक्षा

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें औरैया। सिद्धार्थ चेरिटेबल ट्रस्ट के तत्वावधान में सिद्धार्थ ...