Breaking News

हैदराबाद केस में जो कुछ भी महिला डॉक्टर के साथ हुआ उसे लेकर बाबा रामदेव ने दिया ये बयान

हैदराबाद में महिला डॉक्टर से रेप कर हत्या करने के आरोपियों के कथित पुलिस एनकाउंटर पर योग गुरू रामदेव ने पुलिस की तारीफ की है। योग गुरू और कारोबारी रामदेव ने कहा, मुझे लगता है कि पुलिस ने बहुत ही हिम्मत का काम किया है। पुलिस ने पीड़िता को न्याय दिया है। इस पर कानूनी तौर पर क्या सवाल होंगे, वो अलग बात है। लेकिन देश के लोगों को इससे शान्ति मिली है।बाबा रामदेव ने कहा कि देश को कलंकित करने वाले इस तरह के अपराधियों को ऑन द स्पॉट ही मार दिया जाना चाहिए। बता दें कि हैदराबाद के शादनगर में महिला डॉक्टर से 27 नवंबर को रेप और मर्डर के चार आरोपियों का शुक्रवार तड़के पुलिस ने एनकाउंटर कर दिया है। पुलिस का दावा है कि पुलिस जांच के लिए इन आरोपियों को मौका-ए-वारदात पर ले जाया गया था, जहां इन चारों ने भागने की कोशिश की।

जिस पर पुलिस ने उन्हें गोली मार दी।पुलिस ने तड़के तीन से चार बजे से बीच इस एनकाउंटर को करने का दावा किया है। जिस तरह से पुलिस ने एनकाउंटर के पीछे की कहानी बताई है, उसके बाद इस पर सवाल भी उठ रहे हैं। कई लोगों ने इसे ‘ज्यूडिशिल किलिंग’ करार दिया है। भाजपा सांसद मेनका गांधी ने कहा है कि जो भी हुआ है बहुत भयानक हुआ है इस देश के लिए। आप सिर्फ किसी को इसीलिए नहीं मार सकते क्योंकि आप ऐसा करना चाहते हैं। आप खुद ऐसे कानून हाथ में नहीं ले सकते। उन्हें आज या कल कोर्ट से मौत की सजा मिल ही जाती। सुप्रीम कोर्ट की वकील करुणा नंदी ने आरोपियों के एनकाउंटर की खबरों पर ट्वीट किया, ‘अब कोई ये कभी नहीं जान पाएगा कि मारे गए चारों आरोपी सच में दोषी थे या नहीं। पुलिस ने तुरंत कार्रवाई करते हुए चारों को गिरफ्तार कर लिया था।

हो सकता है कि असली रेपिस्ट अभी भी खुलेआम घूम रहे हों, ताकि वे अन्य महिलाओं का बलात्कार कर सकें।’ इसी तरह सुप्रीम कोर्ट की एक अन्य वकील वृंदा ग्रोवर ने पुलिस के खिलाफ केस दर्ज करने की मांग की है।एनकाउंटर पर सवाल उठ रहे हैं तो बहुत से लोगों ने पुलिस की तारीफ भी की है। कई लोगों का कहना है कि उन आरोपियों का यही हश्र होना चाहिए था। बता दें कि ये एनकाउंटर उसी हाईवे एनएच 44 पर हुआ, जहां 27 नवंबर की रात महिला डॉक्टर के साथ चारों ने कथित तौर पर गैंगरेप करने के बाद उसे जिंदा जला दिया था। गैंगरेप और मर्डर की वारदात के बाद चारों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया था। चारो ही आरोपी 10 दिन की पुलिस रिमांड पर थे। मामले की सुनवाई के लिए 4 दिसंबर को फास्ट ट्रैक कोर्ट का भी गठन किया गया था।

About News Room lko

Check Also

मण्डल रेल प्रबन्धक ने गोरखपुर-आनन्दनगर-बढ़नी-गोण्डा रेलखण्ड का विंडो ट्रेलिंग निरीक्षण किया

लखनऊ। पूर्वाेत्तर रेलवे लखनऊ मण्डल के मण्डल रेल प्रबन्धक आदित्य कुमार ने आज मण्डल के ...