Breaking News

मैं कविता हूँ

मैं कविता हूँ

आंखों में उतरती
लफ़्जों में तैरती
कहानी नहीं
अब हकीकत सी लगती
हां मैं कविता हूँ !
शब्दों को छूकर
रुह को टटोलती
सुकून पाकर
मन की सहेली
हां मैं कविता हूँ !

मौन कल्पनाओं का स्वर
शब्दों का संयोजन
किरदारों का आकाश
तर्कों पर वार
हां मैं कविता हूँ !
व्यथाओं का उमड़ता सागर
अमानवता की परछाई
सभी मौसम का रंग समेटे
जीव निर्जीव की जुबानी
हां मैं कविता हूँ !
बेताब कलम की ख़्वाहिश
स्याह सी स्याही में घुलकर
पन्नों पर जींवत हो जाती
अलंकृत करती संस्कृति
हां मैं कविता हूँ !
            अंशिता दुबे, लंदन

About Samar Saleel

Check Also

त्रिकोण तीर्थ की देवी साधना

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें भारतीय शास्त्रों ने प्रकृति के संक्रमण काल में ...