बाम्बे हाईकोर्ट से कंगना की बड़ी जीत, बीएमसी को देना होगा दफ्तर तोडऩे का हर्जाना

बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत के पाली हिल स्थित दफ्तर को तोड़े जाने संबंधित मामले पर बाम्बे हाई कोर्ट ने अपना फैसला सुना दिया है. बॉम्बे हाई कोर्ट के फैसले के मुताबिक कंगना के दफ्तर में हुए नुकसान का मूल्यांकन किया जाएगा. कोर्ट ने साफ कहा है कि कंगना द्वारा तोडफ़ोड़ में हुए नुकसान के बयान का वह समर्थन नहीं करता है.

कोर्ट ने माना बीएमसी की मंशा ठीक नहीं थी 

कोर्ट ने माना कि ये सभी चीजें कंगना को धमकाने के मकसद से की गईं और बीएमसी की मंशा ठीक नहीं थी. दिया गया नोटिस और की गई तोडफ़ोड़ असल में कंगना को धमकाने के लिए थी. कोर्ट ने कहा कि कंगना को हर्जाना दिए जाने के लिए दफ्तर में हुई तोडफ़ोड़ का मूल्यांकन किया जाए. मूल्यांकन करने वाला व्यक्ति कंगना और बीएमसी दोनों को सुनेगा

कंगना को मिलेगा हर्जाना 

जो भी हर्जाना होगा वो बीएमसी द्वारा भरा जाएगा. कोर्ट ने कहा कि कंगना बीएमसी से दफ्तर को दोबारा बनाने के लिए आवेदन करेंगी. तीन महीने के अंदर आर्किटेक्ट को डैमेज का मूल्यांकन करना होगा. दफ्तर का बाकी हिस्सा जिसे बीएमसी अनधिकृत बता रही है उसे नियमित किया जाए. कोर्ट का ये फैसला दफ्तर में हुई तोडफ़ोड़ के बाद करीबन 2 महीने तक चली बहसों के बाद सुनाया गया है.

Loading...

कंगना के बयानोंं पर कोर्ट का सवाल  

जहां तक कंगना द्वारा दिए गए आपत्तिजनक बयानों और पोस्ट का सवाल है तो कोर्ट ने कहा कि उन्हें सोच समझ कर बोलना चाहिए. कोर्ट ने कहा कि विषय दफ्तर को तोड़ा जाना है न कि ट्वीट में कही गई बातें. वहां पर बहुत सा काम रुका पड़ा है. कोर्ट ने कहा कि वह कंगना द्वारा दिए गए बयान हालांकि गैरजिम्मेदाराना हैं, लेकिन बेहतर तरीका यही है कि ऐसे बयानों को नजरअंदाज किया जाए. कोर्ट ने कहा कि कोई व्यक्ति विशेष कुछ भी मूर्खतापूर्ण बात कहे. राज्य द्वारा समाज पर बाहुबल का इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है. कोर्ट ने तस्वीरों और अन्य सामग्रियों का विश्लेषण किया जिनमें संजय राउत धमकी दे रहे हैं. सामना में छपी सामग्री और न्यूज चैनल पर चलाई गईं वीडियो क्लिप. इमारत को 40 प्रतिशत तक तोड़ा जाना और सामना द्वारा छापी गई हेडलाइन उखाड़ दिया पर गौर किया. कोर्ट ने बीएमसी को जमकर फटकार लगाई है.

कंगना रनौत ने जताई खुशी

कोर्ट का फैसला आने के बाद बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत ने ट्वीट करके खुशी जाहिर की है. कंगना ने कोर्ट के फैसले की खबर को रीट्वीट करते हुए लिखा- जब एक व्यक्ति सरकार के खिलाफ खड़ा होता है और जीतता है तो ये उस व्यक्ति की जीत नहीं बल्कि लोकतंत्र की जीत है. शुक्रिया उन सभी का जिन्होंने मुझे साहस दिया और शुक्रिया उनका जो मेरे टूटे हुए सपनों पर हंसे. ये आपको विलेन की भूमिका में खड़ा करता है ताकि मैं हीरो बन सकूं.

Loading...

About Aditya Jaiswal

Check Also

हर देशभक्त को समर्पित है मेरी पहली शॉर्ट फिल्‍म भारत: निरहुआ

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें भोजपुरी सुपर स्‍टार दिनेशलाल यादव निरहुआ की पहली ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *